किसी भी देश की खुशहाली और तरक्क़ी उस देश के नागरिकों पर निर्भर होती है । अगर देश के नागरिक ख़ुशहाल हैं तो देश भी ख़ुशहाल होगा। नागरिकों की ख़ुशहाली नापने के पैमानों पर बात करें तो सबसे ऊपर प्रति व्यक्ति आय होगी। अगर नागरिकों के पास पैसा है तो उनकी बुनियादी ज़रुरते रोटी ,कपड़ा ,मकान पूरी होंगी। इसके अलावा सुरक्षा का वातावरण, सम्मान के साथ जीने की आज़ादी,शिक्षा, स्वास्थ्य, इंफ्रास्ट्रक्चर, सरकारी नीतियां।

यह सारे कारक मिलकर खुशहाली के मानक बनाती हैं। आम तौर पर विकसित पश्चिमी देश इस इंडेक्स में ऊपर रहते हैं। यही कारण है कि विकास शील देशों के नागरिक बड़ी संख्या मे इन देशों की और पलायन करते रहते हैं। लेकिन इस कड़ी मे अरब जगत भी पीछे नहीं है। ख़ास तौर पर भारत ,पाकिस्तान ,बंगला देश से लाखो करोड़ों नागरिक बेहतर रोज़गार के लिए खाड़ी देशों की और रुख़ करते हैं।ऐसे में यह जानना ज़रुरी हो जाता है कि इन देशों मे सबसे ज़यादा सुर’क्षित देश कौन से हैं, जहाँ देश विदेश के लोग शांति के साथ रह सकें और अपनी जीविका अर्जित कर सकें।

अगर बात मुस्लिम राष्ट्रों की करें तो कुवैत, मलेशिया, संयुक्त अरब अमीरात, अल्बानिया,और इंडोनेशिया इस कड़ी में दूसरे देशों से बहुत आगे हैं। इस कड़ी मे सबसे पहले कुवैत का नाम आता है।यह दुनिया का सबसे शांति प्रिय मुस्लिम देश है। साथ ही यह दुनिया का सबसे धनी देश माना जाता है। कुवैत के एक दीनार की कीमत भारत के लगभग 242 रुपये के बराबर है।

दूसरे नंबर पर मलेशिया आता है । यहां की आय भारत की आय से 4 गुना अधिक है। मलेशिया में दुनिया भर के लोग रोज़गार की तलाश में आते हैं। सुरक्षा के लिहाज से संयुक्त अरब अमीरात तीसरा सबसे सुरक्षि’त मुस्लिम देश माना जाता है।यूएई अपने सख़्त क़ायदे कानून के लिए सारी दुनिया में मशहूर है।

यहाँ की खूबसूरती भी पूरी दुनिया में मशहूर है।यूरोप में स्थित अल्बानिया दुनिया का चौथा सबसे सु-रक्षित मुस्लिम देश माना जा है। यहां के लोग काफी शिक्षित और शांतिप्रिय होते हैं। इस कड़ी मे पाँचवें नंबर पर इंडोनेशिया है ।इसका शुमार दक्षिण पूर्व एशिया के सबसे प्रगतिशील और ताकतवर देशों मे होता है।(भारत दुनिया)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *