Exit Poll ने BJP को चौंकाया, जहां मिलनी थी जीत वहाँ भी..

पश्चिम बंगाल में आज आठवें चरण का मतदान हुआ. इसके साथ ही पांच राज्यों के चुनाव में मतदान प्रक्रिया संपन्न हुई. असल नतीजें तो 2 मई को आएंगे लेकिन एग्जिट पोल्स के नतीजे आने शुरू हो चुके हैं. अगर एग्जिट पोल्स की माने तो पश्चिम बंगाल में एकबार फिर दीदी की वापसी होती दिख रही है. वहीं असम में बीजेपी लगातार दूसरी बार सरकार बना सकती है. तमिलनाडु में डीएमके सरकार में आती दिख रही है.

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों के एग्जिट पोल्स के नतीजे सामने आ रहे हैं. एबीपी के एग्जिट पोल के अनुसार पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस को 152-164 सीटें, बीजेपी को 109 से 121 सीटें, वहीं, LF+INC+ISF के खाते में 14-25 सीटें जानें का अनुमान है. बात अगर तमिलनाडु की जाए तो यहां एआईडीएमके+ के खाते में 58 से 70, डीएमके+ के खाते में 160-172 सीटें और अन्य को 7 सीटें मिल सकती हैं. वहीं, असम में एक बार फिर बीजेपी सत्ता में वापसी करती हुई नजर आ रही है.

असम में एनडीए गठबंधन को 58 से 71 सीटें, यूपीए को 53 से 66 सीटें, जबकि 5 सीटें अन्य के खाते में जा सकती हैं. केरल के चुनाव का एग्जिट पोल का आंकड़ा ये बताता है कि यहां लेफ्ट की सरकार की वापसी होने जा रही है. राज्य में 140 सीटों में से लेफ्ट को 71-77 सीटों पर जीत हासिल हो सकती है और कांग्रेस नीत यूडीएफ को 62-68 सीटों पर जीत मिल सकती है. इसके अलावा बीजेपी के लिए सिर्फ 0-2 सीटों पर ही जीत की उम्मीद है. वहीं, बात अगर पुडुचेरी की जाए तो यहां पर एनडीए गठबंधन को 19 से 23 सीटें, यूपीए गठबंधन को 6 से 10 सीटें और अन्य के खाते में 1 से 2 सीटें जा सकती हैं.

ABP News C Voter के एग्जिट पोल के मुताबिक, असम विधानसभा की कुल 126 सीटों में बीजेपी गठबंधन को 58 से 71 सीटें और कांग्रेस गठबंधन को 53 से 66 सीटें मिल सकती हैं. राज्य में किसी भी एक दल या गठबंधन को सरकार बनाने के लिए 64 सीटों की जरूरत होती है. यानि राज्य में कांग्रेस और बीजेपी गठबंधन में कांटे की टक्कर देखने को मिल रही है.

पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि राज्य में चुनाव की वजह से कोरोना नहीं फैला. हार छुपाने के लिए टीएमसी के लोग कोरोना का बहाना बना रहे हैं. छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में प्रधानमंत्री की रैली नहीं हुई इसके बाद भी वहां कोरोना फैला है. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी हार की वजह से बहाना बना रही हैं.

1. बंगाल
बंगाल के दो पोल सामने आए हैं। इनमें से एबीपी-सी वोटर ने ममता को बहुमत मिलने का अनुमान जाहिर किया है। इस सर्वे के मुताबिक, तृणमूल को 158, भाजपा को 115, लेफ्ट+कांग्रेस 20 सीटें मिलने के आसार हैं। दूसरा सर्वे रिपब्लिक सीएनएक्स का है। इसमें तृणमूल को 133, भाजपा को 143 और कांग्रेस 16 सीटें मिलने का अनुमान जाहिर किया गया है। बंगाल में इस बार भाजपा ने 294 में से 293 सीटों पर चुनाव लड़ा। 1 सीट उसने सुदेश महतो की ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन पार्टी को दी। पिछली बार यहां भाजपा ने गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के साथ चुनाव लड़ा था। इस बार यह GJM तृणमूल के साथ है। तृणमूल 290 और GJM 3 सीटों पर चुनाव में उतरा। 1 सीट निर्दलीय को दी गई।

2. तमिलनाडु
यहां पहली बार जयललिता और करुणानिधि के बगैर विधानसभा चुनाव हुए। सत्ता में अन्नाद्रमुक है। वह 234 सीटों में से 179 पर और भाजपा 20 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। बाकी सीटें अन्य दलों को दी हैं। वहीं, द्रमुक 173 और कांग्रेस 25 सीटों पर चुनाव लड़ रही है।

3. असम
असम में पिछली बार सत्ता में आई भाजपा से बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट अलग हो गया है। वह इस बार कांग्रेस और लेफ्ट के साथ मैदान में है। वहीं, भाजपा, असम गण परिषद और UPLL एक साथ चुनाव लड़ रहे हैं। 126 सीटों में से भाजपा ने 92 और कांग्रेस ने 94 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं।

3.केरल
बंगाल में कांग्रेस और लेफ्ट मिलकर चुनाव लड़ते हैं, जबकि केरल में वे एक-दूसरे के विरोध में रहते हैं। यहां अभी लेफ्ट की अगुआई वाले LDF की सरकार है। कांग्रेस इसका हिस्सा नहीं है। कांग्रेस की अगुआई वाला UDF यहां विपक्षी गठबंधन है। वहीं, भाजपा ने इस बार 140 में से 113 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं।

5. पुडुचेरी
यहां कांग्रेस सत्ता में है। इस बार वह 30 सीटों में से 14 और द्रमुक 13 सीटों पर लड़ रही है। उधर, भाजपा 9 और ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस 16 सीटों पर मैदान में है।

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.