एरदोगन ने बशर अल अस’द को दी कड़ी चे’तावनी,’इद्लिब और ..’

तुर्की और सीरिया में इस समय जं’ग जैसे हालात बन गए हैं. इस बीच तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दो’आन ने असद शासन को फ़रवरी के अं’त तक तुर्की अवलोकन पो’स्ट ला’इनों के पीछे ह’टने या नतीजों का साम’ना करने की चे’तावनी दी। सत्तारूढ़ जस्टिस एंड डेवलपमेंट पार्टी (एके पार्टी) की संसदीय समूह की बैठक में बोलते हुए, एर्दोआन ने कहा कि यदि असद शासन नि’र्दिष्ट क्षेत्रों में अपनी से’ना वापस नहीं लेता है तो तुर्की कार्रवाई करेगा।

राष्ट्रपति ने कहा, “तुर्की की वायु से’ना और भू’मि सी’रिया के इदलिब में सभी ऑपरेशन क्षेत्रों में स्व’तंत्र रूप से आगे बढ़ेगी, और यदि आवश्यक हो तो वे ऑपरे’शन करेंगे।” एर्दोआन ने कहा, “सीरिया के इदलिब और पूर्व में यूफ्रेट्स के सम’झौते काम नहीं कर रहे हैं, क्योंकि सोची और अस्ताना समझौतों के उ’ल्लंघन में शा’सन ने ह’मले जारी रखे हैं। उन्होंने यह कहकर जारी रखा कि तुर्की का ल’क्ष्य अपने अभियानों में निर्दो’ष नागरि’कों के जीवन और सं’पत्ति की रक्षा करना है।

रविवार को, असद शा’सन बलों के एक ह’मले में उत्तर-पश्चिमी इदलिब प्रांत में सात तुर्की सैनिकों और एक नागरिक ठेके’दार की मौ’त हो गई। तुर्की ने जवाबी कार्रवाई की और ह’मले में शामिल शासन के ठिकानों को नष्ट कर दिया। राष्ट्रपति एर्दोआन ने कहा, “इदलिब में सीरिया पर असद शासन के हम’ले के बाद कुछ भी नहीं होगा।” उन्होंने यह भी कहा कि तुर्की को उम्मीद है कि क्षेत्र में रूस अंकारा की सं’वेदनशीलता को समझेगा।

सीरि’याई सेना के अभियान में तुर्क सै’निकों की मौ’त के बाद, मास्को और अंकारा के बीच त’नाव बढ़ गया है और इससे दोनों देशों के रिश्तों में द’रार प’ड़ने की संभावना है। हालांकि पिछले कुछ वर्षों के दौरान, तुर्की और रूस काफ़ी क़रीब आ रहे थे और दोनों के बीच ऊ’र्जा, रक्षा और व्यापार के क्षेत्रों में लगातार सहयोग बढ़ रहा था। पिछले साल तुर्की और रूस के बीच हुई सहमति के बाद, तुर्क से’ना ने इदलिब के आसपास 12 चेकपोस्टों की स्थापना की थी, जिनमें से कुछ सीरियाई से’ना की ब’मबारी की चपेट में आ गई थीं।

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.