अरब प्रिंस ने भारतीय बच्चे की ख्व़ाहिश को किया पूरा, कैंस’र का मरी’ज़

दुबई के युवराज शेख हमदान ने कैं’सर से जूझ रहे सात वर्षीय भारतीय बच्चे की खुशी के लिए उससे मुलाक़ात की। बच्चे के साथ मुलाक़ात के बाद शेख हमदान सोशल मीडिया पर तस्वीर भी शेयर की। ‘गल्फ न्यूज’ की खबर के मुताबिक अब्दुल्ला हुसैन ने सोशल मीडिया पर अपने आदर्श शेख हमदान से मिलने की इच्छा जताई थी। जिसके बाद एक न्यूज चैनल पर भी यह खबर दिखाई गई थी। अब्दुल्ला ने एक वीडियो में कहा था कि “शेख हमदान बहुत शांत, साहसी और दयालु हैं। मैं उनके पालतू पशुओं से मिलना चाहता हूं और मैं उनकी पोशाकों को देखना चाहता हूं।”

अब्दुल्ला ने वीडियो में एक बै’नर भी पकड़ा हुआ था, जिस पर लिखा था कि “शेख हमदान, मैं आपका प्रशं’सक हूं। मैं आपसे मिलना चाहता हूं। फजा, मैं आपसे प्रेम करता हूं।” शुक्रवा’र को शेख हमदान के साथ मुलाकात के बाद अब्दुल्ला की मां नौशीन फा’तिमा ने ‘गल्फ न्यूज’ से बातचीत करते समय अपने परिवार और बच्चे की खुशी के लिए धन्यवाद किया था। उन्होंने कहा कि “महामहिम से मुलाकात के बाद से अब्दुल्ला बहुत खुश है। उनसे मिलना मेरे बच्चे की सबसे बड़ी हसरत थी। अल्लाह का शुक्र है कि उसकी हसरत पूरी हुई।”

Dubai Prince Sheikh Hamdan

नौशीन फातिमा ने कहा कि युवराज से मुलाकात के बाद अब्दुल्ला उनका और बड़ा प्रशंसक हो गया है। वहीं हमदान ने अब्दुल्ला के साथ मुलाकात के बाद इंस्टाग्राम पर एक तस्वीर पोस्ट करके लिखा था कि “आज इस साहसी लड़के से मुलाकात हुई।” नौशीन ने कहा कि “वह अपने नायक से मिला है और हम सब युवराज की दिल को छूने वाली इस पहल से बहुत खुश हैं।” उन्होंने कहा कि ‘‘शेख हमदान की सरलता, दयालुता, अब्दुल्ला और उसके छोटे भाई अहमद से उनके बात करने के तरीके और उनके विनम्र एवं चुलबुले स्वभाव ने परिवा’र का दिल छू लिया।” उन्होंने कहा कि शेख हमदान ने अब्दुल्ला के उपचार और आगे की योजनाओं के बारे में पूछा। नौशीन ने कहा कि “वह बहुत दरियादिल हैं। हमें लगा ही नहीं कि हम युवराज से बात कर रहे हैं।”

अब्दुल्ला के पिता मोहम्मद ताजामुल हुसैन ने शेख हमदान को उनकी तस्वीर तोहफ़े में दी। नौशीन ने बताया कि “शेख हमदान ने उपहार स्वीकार किए और 15 मिनट की मुलाकात में परिवा’र के साथ तस्वीरें खिंचवाईं। इसके बाद, अब्दुल्ला के परिवा’र ने एक घंटे से अधिक समय तक शेख हमदान के पालतू पशुओं के साथ समय बिताया।” नौशीन ने आगे बताया कि “अब्दुल्ला को सबसे पहले अपने माता-पिता से शेख हमदान के बारे में पता चला था और बाद में, उसने यूट्यूब पर जनवरी में पहली बार शेख हमदान का वीडियो देखा। परिवा’र को अब्दुल्ला की बीमा’री में बारे में दिसंबर में पता चला था।

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.