लोकसभा चुनाव में भाजपा को देश के कई राज्यों में ज़बरदस्त सफलता मिली. हाल ये था कि कई राज्यों में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस और उसके सहयोगी खाता तक न खोल सके. इसके बाद भी कुछ ऐसे राज्य रहे जहां कांग्रेस और उसके सहोगियों को विशेष सफलता मिली. पंजाब और केरल में कांग्रेस ने कमाल का प्रदर्शन किया वहीँ तमिल नाडू में कांग्रेस सहयोगी DMK और साथी दलों ने शानदार जीत हासिल की.

तमिल नाडू की 38 लोकसभा सीटों में से UPA ने 37 सीटें जीत लीं. DMK ने 23, कांग्रेस ने 8, सीपीआई ने 2, सीपीएम ने 2 VCK ने एक और IUML ने भी एक सीट जीत ली. देखा जाए तो बस एक सीट ही ये गठबंधन नहीं जीत पाया. यही एक सीट NDA की AIADMK को मिली. DMK के नेता लेकिन अब कुछ ऐसी बात कर रहे हैं जो कांग्रेस के नेताओं को पसंद नहीं आएगी.

DMK के नेता केएन नेहरु ने आज कहा कि ये अच्छा होगा अगर हम लोकल बॉडी चुनाव अकेले लड़ें. उन्होंने कहा कि हम कब तक उनका बोझ उठाएंगे. उन्होंने कहा कि ये मेरे विचार हैं लेकिन मैं अपने लीडर (एम् के स्टॅलिन) की बात पर सहमत रहूँगा. उन्होंने कहा कि अगर वो कहंगे कि कांग्रेस को अपने कंधे पर लेकर चलो, तो हम तैयार हैं.

DMK नेता के इस बयान पर कांग्रेस नेता करते आर थिअग्राजन ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि एक वरिष्ठ DMK नेता ऐसा बयान कैसे दे सकता है. हमने 2006 और 2011 में ३० से ज़्यादा विधायकों के साथ DMK सरकार का समर्थन किया. उन्होंने कहा कि राज्य में भले ही कांग्रेस नंबर एक न हो लेकिन हम निर्णायक भूमिका में रहे हैं.उन्होंने कहा कि अगले हफ्ते स्पीकर के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव है, कांग्रेस के 7 वोट महत्वपूर्ण हैं..हम DMK के प्रस्ताव का समर्थन करेंगे.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.