दिशा रवि के वकील ने पु’लिस से पूछे क’ड़े स’वाल, अ’दालत ने फ़ै’सला सुनाने को…

February 21, 2021 by No Comments

नई दिल्ली: टूलकिट मामले में गि’रफ्तार पर्यावरण एक्टिविस्ट दिशा रवि के मामले में शनिवार को पटि’याला हाउस कोर्ट में सुनवाई हुई. तीन घंटे चली ब’हस के बाद कोर्ट ने कहा कि 23 फरवरी को दिशा रवि की जमा’नत पर फै’सला सुनाएगा. कोर्ट ने 22 साल की क्लाइ’मेट एक्टिविस्ट दिशा को न्यायिक हिरा’सत में भेज दिया था. दिशा रवि ने बे’ल के लिए शुक्रवार को अर्ज़ी दायर की थी.

दिशा रवि पर आ’रोप है कि उन्होंने उस टू’लकिट का प्रचार किया, जिसकी वजह से 26 जनवरी को ट्रै’क्टर रैली के दौरान लाल कि’ले पर हिं’सा भ’ड़की। कोर्ट अब मामले में 23 फरवरी यानी मं’गलवार को फै’सला सुनाएगा। वहीं दिशा रवि की जमान’त का वि’रोध करते हुए दिल्ली पु’लिस ने कोर्ट में कहा कि कनाडा स्थित जस्टिस पोएटिक फाउंडेशन का नाम लिया और कहा,”ये संग’ठन खा’लिस्तान आंदोलन का सम’र्थन करता है.. वो किसान आंदोलन का फा’यदा उठाना चाहते थे. इसके लिए उन्हें भारतीय चेहरे की जरूरत थी जिसमें दिशा रवि शामिल थी. इस टू’लकिट बनाने का उद्देश्य आरोपियों के बीच ष’ड़यं’त्र में शामिल होना था.”

गौरतलब है कि पु’लिस कोर्ट में कह चुकी है कि उसके पास दिशा के खि’लाफ पर्याप्त स’बूत हैं. इधर, दिशा रवि के वकील ने कहा कि किसी देश वि’रोधी व्यक्ति के बातचीत करने से क्या हम देश विरो’धी हो जाएंगे? अपनी बातें किसी भी प्लेटफॉर्म पर रखना अप’राध नहीं है. दिल्ली पुलि’स कोई लिंक नहीं बना पा रही है. उन्होंने कहा कि हम किसी आन्दोल’न को पसंद-नापंसद कर सकते हैं.नापसंद करने का मतलब ये नहीं कि हम देशद्रो’ही हो गए.दिशा रवि के वकील ने कहा कि सवाल ये है कि क्या टू’लकिट अ’फेंसिव है.

उन्होंने कहा कि किसी भी म’हत्वपूर्ण मामले में किसी से बात करना अपरा’ध नहीं. किसी से हम बात कर रहे हैं, वो देश वि’रोधी हैं तो उनकी स’ज़ा मुझे क्यों? 5 दिन की पु’लिस रि’मांड में एक बार भी आप बेंगलुरु लेकर नहीं गए. कही छा’पा नहीं मा’रा. कुछ रिकवर नहीं किया, जबकि पुलि’स के मुताबिक, सब कुछ बेंगलुरु में किया गया.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *