दिग्विजय सिंह ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर किया कटाक्ष,’परिवहन और राजस्व में सिंधिया जी..’

July 13, 2020 by No Comments

भोपाल: मध्य प्रदेश की सियासत में पिछले कुछ दिनों में उठापटक तो होती ही रहती है. साल के शुरू में यहाँ कमलनाथ मुख्यमंत्री थे लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बग़ावत कर दी और कांग्रेस की सरकार गिर गई. भाजपा की सरकार बनी और एक बार फिर शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री बने. इस सरकार को ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थन वाले विधायकों ने भी समर्थन दिया.

23 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद 2 जुलाई को मंत्रिमंडल का व्यापक विस्तार हुआ. आख़िर मंत्रालयों का बंटवारा भी हो गया. मंत्री परिषद में शिवराज सिंह समेत 34 मंत्री हैं. सीएम शिवराज सिंह की ओर से मंत्रियों के विभागों के बंटवारे की सूची राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के पास अनुमोदन के लिए भेजी गई है. इस बीच मंत्रियों के बीच विभागों के बंटवारे के बाद पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) ने ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) पर तंज कसा है.

दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया, ‘परिवहन और राजस्व विभाग में सिंधिया जी की इतनी रुचि क्यों है? समझदार लोग समझते हैं.’ बता दें कि आज सुबह हुए मंत्रिमंडल बंटवारे में ज्योतिरादित्य सिंधिया के कई करीबियों को कई अहम मंत्रालय दिये गए हैं. सिंधिया के वफादारों को राजस्व, स्वास्थ्य, ऊर्जा, नवीकरणीय ऊर्जा, पर्यटन और परिवहन विभागों प्रमुख विभाग मिले हैं. उधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गुट को लोक निर्माण विभाग, वित्त, चिकित्सा, शिक्षा और खनिज विकास का प्रभार मिला है.

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी ट्वीट करके कटाक्ष किया और लिखा,”23 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ, हमारी बार- बार मांग के बाद , क़रीब एक माह बाद मात्र 5 सदस्यीय मंत्रिमंडल का गठन, फिर लंबा मंथन, फिर 102 दिन बाद 2 जुलाई को मंत्रिमंडल का विस्तार और उसके बाद रोज़ तारीख़ पे तारीख़ के बाद,लम्बे मंथन के बाद, 11 दिन बाद आज विभागों का वितरण. उन्होंने आगे लिखा, ‘अब पता नहीं विष के इस लम्बे मंथन में किसके हिस्से में क्या आया, किसने क्या पाया, क्या खोया, किसने क्या समझौता किया? इसकी सच्चाई तो अब आने वाले समय में ही सामने आयेगी?”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *