दिल्ली पुलि’स ने JNU स्टूडेंट उमर ख़ालिद को गिर’फ़्तार किया…

September 13, 2020 by No Comments

नई दिल्ली: नार्थ-ईस्ट दिल्ली में हुई हिं’सा को लेकर दिल्ली पुलि’स की कार्यवा’ई पर लगातार सं’देह हो रहा है. पु’लिस ने जिस तरह से कार्य’वाई की है उसकी आ’लोचना हो रही है. सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने भी इस बात की ओर इ’शारा किया कि पुलि’स भेदभा’व से काम कर रही है. वहीँ पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदम्बरम ने भी पुलि’स की चार्जशी’ट को मज़ाक़ कहा. चिदंबरम ने कहा, “क्या दिल्ली पु’लिस यह भू’ल गई है कि सू’चना (Information) और चा’र्जशीट (Chargesheet) के बीच महत्व’पूर्ण क़दम भी होते हैं, जिन्हें जां’च और पुष्टिक’रण कहा जाता?”

पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री चिदंबरम ने ट्वीट कर लिखा, “दिल्ली पुलि’स ने दिल्ली दं’गों के मामले में एक पू’रक आ’रोप पत्र में सीताराम येचुरी और कई अन्य विद्वानों और कार्यक’र्ताओं का नाम लेते हुए आप’राधिक न्याय प्रणाली का उप’हास उ’ड़ाया है.” बजाय इससे कोई स’बक़ सीखने के, कोई बात समझने के पु’लिस अभी भी उसी तरह से का’र्यवाई करने में लगी है. विपक्षी पार्टियों के नेता कह रहे हैं कि दिल्ली पुलि’स हर उस व्यक्ति को जे’ल के अन्दर डा’लना चाहती है जो सरकार से सवाल पूछता है वहीं भाजपा के कई नेता जो खुले आम “गो’ली मा’रो सालों को” जैसे ना’रे दे रहे थे, उन पर कोई कार्यवाई ही नहीं हो रही है.

अब ख़बर आ रही है कि दिल्ली पु’लिस ने एक्टि’विस्ट और पूर्व जेएनयू छात्र उमर ख़ालिद को नार्थ ईस्ट दिल्ली में हुई हिं’सा के सम्ब’न्ध में गि’रफ़्तार किया है. ख़ालिद को UAPA के अंतर्गत गिर’फ़्तार किया गया है. पुलि’स से इस तरह के सवाल पूछे जा रहे हैं कि कपिल मिश्रा जैसे लोगों पर पु’लिस ने कोई कार्यवाई क्यूँ नहीं की. ज्ञात हो कि कपिल मिश्रा ने कई क’थित भड़’काऊ नारे लगाये थे.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *