दानिश अली का मायावती ने बढ़ाया क़द, दे दी सबसे ‘बड़ी’ ज़िम्मेदारी

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने लोकसभा चुनाव की हार के बाद कल एक अहम बैठक की। बसपा ने अपनी कार्यकारिणी में कई अहम बदलाव किए हैं। BSP सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार को एक बार फिर पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है। इसके अलावा मायावती ने अपने भतीजे को भी बड़ी ज़िम्मेदारी दी है। पार्टी ने राष्ट्रीय स्तर पर दो समन्वयक बनाए गए हैं.

इस समय राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामजी गौतम अब राष्ट्रीय समन्वयक की जिम्मेदारी संभालेंगे. इसके अलावा मायावती ने जेडीएस से बसपा में शामिल हुए कुंवर दानिश अली को बड़ी ज़िम्मेदारी दी है। उन्होंने दानिश अली को लोकसभा का नेता बनाया गया है। इसके साथ ही जौनपुर से सांसद श्याम सिंह यादव लोकसभा में बीएसपी के उपनेता होंगे.जबकि पार्टी के वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्र राज्यसभा में बीएसपी के नेता होंगे. रविवार की बैठक में बीएसपी के तमाम नेताओं को बुलाया गया था.नेताओं के साथ बैठक में पार्टी प्रमुख मायावती ने इन पदों पर फैसले लिए.

Mayawati

लोकसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन न करने के कारण मायावती संगठन में बड़ा बदलाव करने जा रही हैं।इससे पहले जून के शुरुआती दिन में दिल्ली में हुई एक बैठक में बड़ी कार्रवाई करते हुए उन्होंने छह राज्यों के लोकसभा चुनाव प्रभारियों की छुट्टी कर दी थी. इसके साथ ही तीन राज्यों के प्रदेश अध्यक्षों को भी उनके पद से बेदखल कर दिया था.

मायावती के निशाने पर प्रदेश के 40 समन्वयक और जोनल समन्वयक हैं,जिनपर कार्रवाई हो रही है.गौरतलब है कि 2012 के यूपी विधानसभा चुनाव से बीएसपी का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है.हालत यह हो गई कि 2014 के लोकसभा चुनाव में बीएसपी खाता भी नहीं खोल सकी थी. इसके बाद 2017 के विधानसभा चुनाव में बीएसपी महज 19 सीटें ही जीत सकी थी.

Mayawati

इस बार के लोकसभा चुनाव में सपा से गठबंधन के बावजूद बीएसपी मात्र 10 सीटें ही जीत सकी. बीएसपी अब लोकसभा चुनाव के दौरान पार्टी विरोधी काम करने वालों के खिलाफ एक्शन मोड में आ गई है.पार्टी प्रमुख मायावती ने ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.