मुम्बई: दुनिया भर में कोरोना की दूसरी लहर फिर से फैल रही है. इस लहर का सबसे ज़्यादा असर भारत में देखने को मिल रहा है.कई राज्यों में स्वास्थ्य सेवायें चरमरा सी गई हैं. भारत की मदद के लिए कई देशों ने हाथ बढ़ाया है. वहीं ख़बर है कि द यूपीएस फाउंडेशन ने भारत को 10 लाख डॉलर की मदद देने की घोषणा की है. यह मदद इमरजेंसी फंडिंग, इन-काईंड परिवहन के आवागमन और तकनीकी विशे’षज्ञता के रूप में दी जाएगी, ताकि आपा’त राहत एवं सामरिक सहयोग पहुंचाया जा सके.

निक्की क्लिफ्टन, प्रेसिडेंट, सोशल इंपैक्ट एवं द यूपीएस फाउंडेशन ने कहा, द यूपीएस फाउंडेशन कोविड-19 से प्रभावित समुदायों की सेहत में सुधार के लिए समर्पित है और हम अपनी साझेदारियों, अपने संसाधनों एवं अपनी लॉजिस्टिक्स की विशेषज्ञता द्वारा भारत के कष्ट को कम करने में मदद देना चाहते हैं। द यूपीएस, यूनिसेफ, केयर, द साल्वेशन आर्मी, द इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ रेड क्रॉस एवं रेड क्रेसेंट सोसायटीज, एमएपी, मेडशेयर, रोटरी क्लब, यूएस चैंबर फाउंडेशन आदि सहित अनेक सामरिक साझेदारों के साथ समन्वय में काम कर रहा है.

इसकी मदद से भारत में ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर्स, वैंटिलेटर्स, नेबुलाईजर्स, रेस्पिरेटरी सप्लाई, पीपीई, कोविड-19 टेस्ट किट्स तथा एंटीवायरल मेडिकेशन सहित महत्वपूर्ण मेडिकल सप्लाई की व्यवस्था हो सके। द यूपीएस फाउंडेशन द साल्वेशन आर्मी और केयर को इमरजेंसी फंडिंग भी दे रहा है। केयर भारत में स्वास्थ्य व्यवस्था में बिहार राज्य का सहयोग कर रहा है। इस सहयोग के तहत दो अस्थायी कोविड-19 केयर सेंटर शुरू किया जाना शामिल है तथा पाँच इंटेंसिव केयर सेंटर्स शुरू किए जाएंगे।

इसके अलावा साल्वेशन आर्मी के डॉलर्स से अस्पतालों में ऑक्सीजन कंसन्ट्रेशन सुविधाओं के लिए फंड मिलेगा ताकि सबसे गंभीर मामलों के इलाज के लिए उनकी क्षमता बढ़ाई जा सके। भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर चल रही है और अस्पताल महत्वपूर्ण मेडिकल उपकरण बनाए रखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इस समय जैकसन कार्टर जैसे द यूपीएस कर्मी मदद करने के लिए उत्सुक हैं।

Corona Vaccine

जैकसन ने कहा, हम एक वाक्य का इस्तेमाल करते हैं, जो सबसे अनमोल है उसे करीब लायें। उन्होंने कहा, हम यह काम भी इसीलिए कर रहे हैं। द यूपीएस ग्लोबल फ्रेट फॉरवडिर्ंग के लिए इंटरनेशनल एयर फ्रेट के डायरेक्टर, जैकसन ने हाल ही में भारत में विभिन्न शहरों को आवश्यक आपूर्ति की शिपमेंट्स में समन्वय करने के लिए दैनिक कॉल्स चलाना शुरू किया।

द यूपीएस ग्लोबल फ्रेट फॉरवडिर्ंग टीम ने द यूपीएस फाउंडेशन के साथ सामंजस्य में 5000 से ज्यादा ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर सेवा इंटरनेशनल एवं यूनिसेफ के साथ भारत के विभिन्न स्थानों पर पहुंचाए। शिपमेंट्स भारत में 3 मई को आना शुरू हुए और निकट भविष्य में उनकी आपूर्ति जारी रहेगी। इसके अलावा, द यूपीएस ग्लोबल फ्रेट फॉरवडिर्ंग ने अस्पतालों, मुंबई के उत्तर में दूर दराज के गांवों और गुजरात के आदिवासी इलाकों के लिए फ्रेंड्स ऑफ डिसएबल्ड एडल्ट्स एंड चिल्ड्रन की ओर से रेस्पिरेटर उपकरण के पैलेट्स पहुंचाए।

ज्वॉय ऑफ शेयरिंग फाउंडेशन को शिपमेंट मिलेंगे, जो इनका वितरण करेगा। रोमेन सेग्विन, प्रेसिडेंट, ग्लोबल फ्रेट फॉरवडिर्ंग ने कहा, इस मुश्किल दौर में हमारे दिल भारत के लोगों के लिए व्याकुल हैं। हम सदैव मदद करने के लिए तैयार रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *