कोरोनावायरस मरीज़ों को न दी जाए ये दवा, WHO ने एंटी-वायरल दवा का इस्तेमाल मना किया..

November 20, 2020 by No Comments

पेरिस: कोरोना महामारी का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है। दुनिया भर की सरकारें अपनी ओर से ये दावे कर रही हैं कि उन्होंने इसकी रोकथाम के लिए विशेष क़दम उठाये हैं। हालाँकि ये भी सच है कि आम जनता के लिए लंबे समय तक बंदिशों में रहना मुश्किल बात है। ख़ासतौर से उन लोगों के लिए जो ग़रीब हैं। कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी को लेकर पूरी दुनिया चिंता में है. लोग इसकी दवा भी ढूँढ रहे हैं और इससे बचने के लिए वैक्सीन की भी रिसर्च चल रही है.

कुछ जगह पर कोरोना के इलाज के लिए रेमडेसिवीर दवा का इस्तेमाल किया जा रहा है. ये दवा एंटी-वायरल है लेकिन अब इसके इस्तेमाल को लेकर भी WHO ने मना किया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा कि कोरोना मरीजों के उपचार के लिए रेमडेसिवीर का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए, इस बात से फर्क नहीं पड़ता है कि मरीज़ कितना बीमार है क्योंकि इसका जीवित रहने के अवसर पर “कोई महत्वपूर्ण प्रभाव” नहीं पड़ता है.

डब्ल्यूएचओ गाइडलाइन डेवलपमेंट ग्रुप (GDG) के अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों ने कहा कि वर्तमान में मौजूद डेटा से इस बात कोई सबूत नहीं मिलता है कि रेमडेसिवीर मरीज़ के अहम परिणामों में सुधार करता है. हालांकि, अमेरिका, यूरोपीय संघ और अन्य देशों ने रेमडेसिवीर के अस्थायी उपयोग को मंजूरी दी हुई है. शुरुआती रिसर्च में कुछ मरीजों में रिकवरी टाइम को कम करने में मददगार होने की बात सामने आने के बाद रेमडेसिवीर को लेकर यह कदम उठाया गया था. अक्टूबर में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के कोरोना संक्रमित होने के बाद उन्हें रेमडेसिवीर समेत अन्य दवाएं दी गई थीं.

विश्व स्वास्थ संगठन की ये सिफ़ारिश चार अंतरराष्ट्रीय रेंडम ट्रायल पर आधारित है, जो कि अस्पताल में भर्ती 7000 से अधिक कोरोना मरीज़ों पर की गई. बीएमजे मेडिकल जर्नल में प्रकाशित अपडेटेड ट्रीटमेंट गाइडेंस में पैनल ने कहा कि उनकी सिफारिश का मतलब यह नहीं है कि रेमडेसिवीर का मरीज़ों के लिए कोई लाभ नहीं है.फिर वो आगे कहते हैं कि लागत और डिलिवरी के तरीकों के आधार पर “अस्पताल में भर्ती कोरोना संक्रमित मरीज़ के लिए रेमडेसिवीर के इस्तेमाल की सलाह नहीं दी जाती है, चाहे रोगी कितना भी गंभीर क्यों न हो.” ये बहुत ही कंफ्यूज करने वाली सिचुएशन है और WHO के बयान से कोई क्लैरिटी मिलती नहीं दिख रही है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *