दुबई/अबू धाबी: UAE उन कम देशों में से है जिसने कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ जल्दी बड़े क़दम उठाये और बड़े स्तर पर टेस्टिंग भी की. अब ख़बर है कि दुबई की बुर्ज ख़लीफ़ा ने ग़रीबों को 12 लाख राशन मुहैया कराने का उद्देश्य हासिल कर लिया है. कोरोना संकट जब शुरू हुआ था तब बुर्ज ख़लीफ़ा ने ये मुहिम चलाई थी. दुनिया की कई नामी संस्थाओं ने इस मुहिम में हिस्सा लिया और इस लक्ष्य की प्राप्ति हुई.

कोरोना संकट के कारण दुबई के ग़रीब लोगों के लिए मुश्किल खड़ी हो गई थी. अपनी इस मुहिम के एक सप्ताह के अन्दर ही उसने 12 लाख लोगों के लिए खाने का इंतज़ाम कर लिया. अपने लक्ष्य को पूरा कर लेने पर बुर्ज ख़लीफ़ा में 12 लाख लाइट्स को जलाया गया. डोनेशन देवालों में मैकडोनाल्ड, बर्गर किंग के अलावा टेक्सास चिकेन, वेस्ट जोन और मैक होल्डिंग प्रमुख रूप से रहे. डोनेशन हासिल करने के लिए कार्यक्रम का भी आयोजन हुआ.

इससे हासिल हुई आमदनी को ज़रूरतंदों तक पहुंचाया जाएगा. MBRGI की मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुना अलकिंदी ने कहा, “दुनिया का सबसे लंबा डोनेशन बॉक्स का लक्ष्य रिकॉर्ड समय में हासिल कर लिया है. इससे संयुक्त अरब अमीरात समाज की एकता का पता चलता है. समाज के सभी लोग जरूरतमंदों की मदद को मुसीबत के वक्त आगे आए हैं. मानवीय राहत के लिए विश्व मॉडल के तौर पर संयुक्त अरब अमीरात उभरा है.”

उन्होंने कहा कि कोविड-19 की वजह से प्रभावित होने वाले लोगों तक मदद का हाथ बढ़ाने की ज़रूरत है. दरअसल बुर्ज ख़लीफ़ा ने कंपनियों, प्रतिष्ठानों के लिए बुर्ज ख़लीफ़ा पर लाइट ख़रीदने के लिए विकल्प दिया था. इसके बदले उनके लिए 10 दिरहम क़ीमत रखी गई थी. 10 दिरहम के बदले भोजन या राशन का पैकेट निम्न आयवालों को देने का मंसूबा था. एबीपी न्यूज़ नामक पोर्टल में छपी ख़बर के मुताबिक़, रमज़ान को देखते हुए अमीरात के अमीर शेख मोहम्मद बिन राशिद अलमखतूम ने 10 मिलियन राशन बांटे जाने का एलान किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *