कोरोना से ल’ड़ने के लिए इन अरब देशों ने दिखाई कमाल की तेज़ी, हर देश कर रहा है तारीफ़…

कोरोना वायर’स ने इस समय पूरी दुनिया में परेशानी खड़ी की हुई है. अमरीका, इटली, स्पेन, चीन और कई देशों में इस बीमा’री ने जान माल की बड़ी हानि पहुँचाई है. कुल संक्रमित लोगों की संख्या अब 24 लाख पहुँचने वाली है जबकि 1,64,174 लोग इस वाय’रस की वजह से अपनी जान गँवा चुके हैं. अमरीका में कुल संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 755,162 तक पहुँच गई है, वहीँ स्पेन, इटली, फ़्रांस, जर्मनी, ब्रिटेन, तुर्की में भी मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं. भारत में भी संक्रमित लोगों की संख्या 16 हज़ार पार कर चुकी है.

इस बी’मारी से बचने का जो तरीक़ा बताया जा रहा है उसमें एक तो है लॉक डाउन. इसी वजह से दुनिया के कई देशों ने पूरी तरह से लॉक डाउन कर लिया है. परन्तु जानकार मानते हैं कि सिर्फ लॉक डाउन से इस बीमा’री को हराया नहीं जा सकता. इस वा’यरस को जड़ से ख़त्म करने के लिए तो वैक्सीन चाहिए लेकिन वैक्सीन जब तक नहीं बन पा रही है तब तक लोगों की मास टेस्टिंग होनी चाहिए. भारत समेत कई देशों में अब मास टेस्टिंग शुरू हुई है.

कहा जा रहा है कि जिन देशों में मास टेस्टिंग पहले शुरू हो गई वो वाय’रस को कण्ट्रोल करने में लगभग कामयाब सिद्ध हुए हैं. इनमें सबसे अधिक चर्चा UAE की हो रही है. UAE एक ऐसा देश है जहाँ बड़ी संख्या में विदेशी लोग जाते हैं परन्तु UAE को जैसे ही कोरोना वाय’रस के ख़तरे का आभास हुआ वहाँ की सरकार ने मास टेस्टिंग शुरू कर दी.

UAE की कुल आबादी तक़रीबन एक करोड़ है लेकिन बात अगर टेस्ट की करें तो यहाँ सरकार 767,000 टेस्ट कर चुकी है.इसका अर्थ हुआ कि UAE ने प्रति दस लाख 77,550 टेस्ट कराये हैं. मास टेस्टिंग का नतीजा ये हुआ कि संक्रमित लोग जल्दी पकड़ में आ गए और वो किसी और उनके पास से किसी और को संक्रमण जाने के चांस कम हो गए. इसी का नतीजा है कि UAE में अब तक 6,781 केसेस आये हैं, 41 लोगों की मौ’त इस वाय’रस की वजह से हुई है.UAE में 1,286 लोग पूरी तरह ठीक हो चुके हैं.

वहीँ 16 लाख की आबादी वाले एक और अरब देश बहरीन की बहुत तारीफ़ हो रही है. बहरीन में सरकार ने 85,126 टेस्ट करवाए हैं. इसका अर्थ हुआ कि प्रति दस लाख 50,028 टेस्ट हुए हैं. देश में अब तक 1,873 संक्रमित लोग मिले हैं जिनमें से 7 की मौ’त हो चुकी है जबकि 759 पूरी तरह ठीक हो चुके हैं.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.