को’रोना रो’कने के लिए अम’रीका तुर्की से ख़री’देगा ज़’रूरी सा’मान, बद’ले में तु’र्की पै’से की ज’गह..

वाशिंगटन डीसी/अंकारा: संयुक्त राज्य अमरीका में को’रोना वाय’रस ने ब’ड़ी संख्या में लोगों को संक्रमि’त किया है. अमरीका में साढ़े चार लाख से अधिक लोग इस वाय’रस से संक्र’मित हो चुके हैं. सरका’री आंक’ड़ों की मानें तो 16 हज़ार से अधिक लो’गों की इस वाय’रस ने जान ले ली है.पूरी दुनिया में अब तक क़’रीब 16 लाख इस वाय’रस से संक्र’मित हो चु’के हैं. अमरीका में ये आँ’कड़े ज़्यादा इसलिए भी हैं क्यूँकि अमरीका ने टे’स्ट ब’ड़े स्तर पर किए हैं जबकि कई देशों में टे’स्ट का इंतज़ा’म ही ठीक से नहीं हो पा रहा है.

जानकार मानते हैं कि ऐसे कई देश हैं जहाँ ठीक से टे’स्ट हों तो वहाँ भी संक्र’मित व्यक्ति’यों की संख्या अधिक मिल सकती है. इसी को देखते हुए अमरीका ल’गभग हर देश से ज़रूरी सा’मान लेने की कोशिश कर रहा है. पहले अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने एक द’वा के सिल’सिले में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मो’दी से बात की थी जिसके बाद भारत ने उस द’वा का ए’क्सपोर्ट खो’ल दिया.अब ख़’बर है कि अमरीका ने वाशिंगटन डीसी स्थित तुर्की एम्बैसी को एक लिस्ट दी है और कहा है कि वो ये सामा’न तुर्की से ख़री’दना चा’हता है.

Coronavirus

इस लिस्ट में बॉडी बैग्स, साबुन, मास्क, ग्लव्स, रेस्पिरेटर्स, गॉगल्स, मोबा’इल एक्स रे यूनिट, अल्को’हल बेस्ड हैण्ड डिस इन्फेक’टेन्ट्स, एंटी-वा’यरल वैक्सी’न, मॉर्फि’न, एं’टी बायो’टिक्स, मेडिक’ल कि’ट्स, ऑक्सी’जन मास्क, शू कवर्स, मेडिकल टूबस, laryngoscope का सेट, सर्जि’कल मा’स्क, डिस्पोज़े’बल मे’डिकल गा’उन्स, मो’बाइल sphygmometers, सिंपल कैरी केसेस और क्लोराइड. तुर्की ने अमरीका की इस माँ’ग पर स’हमति जताई है.

तुर्की की मी’डिया ने बताया है कि तुर्की की सरकार के पास 93 देशों की रि’क्वेस्ट आयी थी जिनमें से 32 देशों को म’दद देने के लिए तुर्की तै’यार हो गया है. इन देशों में इटली, स्पेन और ईरान का नाम भी शामिल है. इस तरह की भी ख़’बर है कि तुर्की सरकार योजना बना रही है कि इनमें जो सरप्लस तुर्की के पास है वो अमरीका को दे और ब’दले में अमरीका से वो ले ले जो उसके पास सरप्लस हो. इस समय सारी दुनिया में ही मा’ल की परेशानी है, इसलिए ऐसा फ़ैसला किया जा सकता है कि डील मुद्रा में न हो बल्कि बार्टर सिस्टम पर हो.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.