बेंगलुरु: कर्णाटक के सियासी संकट में भाजपा और कांग्रेस अपनी-अपनी ओर से कोशिश में लगे हैं. कांग्रेस इस कोशिश में है कि जेडीएस-कांग्रेस की सरकार किसी तरह बच जाए और भाजपा की ये कोशिश है कि किसी भी तरह से सरकार न बच पाए. इस बीच सारा दारोमदार कर्णाटक विधानसभा के स्पीकर पर आ गया है. स्पीकर केआर रमेश कुमार ने आज इस मामले में अपना पक्ष रखा है. वहीँ कांग्रेस ने इस मामले में एक और दांव खेल दिया है.

कर्णाटक कांग्रेस के विधानसभा में चीफ़ व्हिप गणेश हुक्केरी ने व्हिप जारी किया है कि कल विधानसभा का अहम सेशन होगा और सभी विधायकों को मौजूद होना ज़रूरी है. अगर विधायक मौजूद नहीं रहते हैं तो उन्हें एंटी-ड़ेफेक्शन अधिनियम के अंतर्गत उन्हें बर्ख़ास्त कर दिया जाएगा. कर्णाटक के स्पीकर ने सुप्रीम कोर्ट के उस फ़ैसले पर टिपण्णी की जिसमें सर्वोच्च अदालत ने उन्हें कहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने मुझे फ़ैसला लेने के लिए कहा है.

DK Shivakumar

उन्होंने कहा कि मैंने सब कुछ विडियो में रिकॉर्ड किया है और मैं ये सब सर्वोच्च अदालत में भेजूंगा. उन्होंने उन रिपोर्ट्स को भी सिरे से ख़ारिज किया जिसमें कहा जा रहा है कि कर्णाटक के स्पीकर जानबूझकर बाग़ी विधायकों का इस्तीफ़ा स्वीकार में देर कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि मुझे उन लोगों (बाग़ी विधायकों) ने बताया कि कुछ लोग उन्हें धमका रहे हैं और इसीलिए वो मुंबई गए हैं.

उन्होंने कहा कि लेकिन मैंने उन्हें कहा कि उन्हें मेरे पास आना चाहिए था मैं उन्हें प्रोटेक्शन दिलवा देता. उन्होंने आगे कहा कि सिर्फ़ तीन ही दिन हुए हैं लेकिन वे ऐसे बिहेव कर रहे हैं जैसे भूकंप आ गया हो. उन्होंने कहा कि मुझे ये सभी इस्तीफ़े ध्यान से देखने होंगे और रात भर देख कर ही ये समझ में आयेगा कि इसमें से कितने जेन्युइन हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *