कुछ जानकार ये मान रहे हैं कि मौजूदा समय कांग्रेस के लिए सबसे ख़राब दौर है. लोकसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस में आंतरिक मतभेद का भी दौर है तो साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष के इस्तीफ़े के बाद से ही पार्टी में असमंजस का दौर भी बना हुआ है. इस बारे में लगातार चर्चाएँ हो रही हैं कि पार्टी का अध्यक्ष कौन चुना जाएगा तो वहीँ दूसरी ओर इस वर्ष जिन राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं उनमें भी पार्टी संभावनाएँ तलाश रही है.

अब कॉंग्रेस पार्टी नए सहयोगियों के तलाश में भी जुटी है,अब इसी को लेकर खबर आ रही है कि जल्द ही कॉंग्रेस पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के साथ गठबंधन कर सकती है।वहीं यह कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र में कॉंग्रेस पार्टी इन के इलावा बहुजन वंचित आघाड़ी के साथ भी गठबंधन हो सकती है। इसे लेकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे एवं बहुजन वंचित आघाड़ी के प्रमुख प्रकाश आंबेडकर से कॉंग्रेस नेताओं की बात चीत चल रही है।

वहीं अभी पिछले दिनों सोनिया गांधी ने राज ठाकरे से मुलाक़ात भी की थी, इसी मुलाक़ात के बाद से यह खबर आने लगी थी कि दोनों पार्टियों में गठबंधन हो सकता है। आप को बता दें कि जल्द ही महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और उस से पहले कॉंग्रेस पार्टी चाहती है कि वह ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुँच सके लेकिन इस वक़्त कॉंग्रेस पार्टी महाराष्ट्र में कमजोर दिख रही है,इसी वजह से नए साथियों के तलाश में है।विधानसभा चुनाव को देखते हुये कॉंग्रेस पार्टी ने महाराष्ट्र के अध्यक्ष को बदल दिया है।

अशोक चव्हाण की जगह पर बालासाहेब थोरात को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है।आप को बता दें कि इस वक़्त महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना की सरकार है, कॉंग्रेस पार्टी चाहती है कि इस बार किसी तरह महाराष्ट्र की सत्ता पर कब्जा कर ले,इसी वजह से वह एनसीपी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना बहुजन वंचित आघाड़ी के साथ में मिलकर चुनाव लड़ना चाहती है।इस चर्चा के बाद राजनीतक गलियारों में हलचल मच गई है,लोगों का कहना है कि अगर ऐसा हो जाता है तो भाजपा को महाराष्ट्र में बड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *