नोएडा: कांग्रेस पार्टी ने आज बड़ी कार्यवाही की है. कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेता शकील अहमद को बाहर का रास्ता दिखा दिया है. मधुबनी में वो पार्टी द्वारा किसी और प्रत्याशी को टिकट दिए जाने के बाद भी लोकसभा चुनाव में उतर गए हैं. कांग्रेस पार्टी ने अब उन्हें निलंबित कर दिया है. इस बारे में पार्टी ने एक विज्ञप्ति जारी की है. शकील अहमद के अलावा पार्टी ने अपने एक और विधायक को भी निलंबित किया है.

विधायक भावना झा को भी निलंबित किया गया है. उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए निलंबित किया गया है. आपको बता दें कि मधुबनी लोकसभा सीट से उम्मीद’वारी करने से पहले शकील अहमद ने कांग्रेस के प्रवक्ता पद से इस्तीफ़ा दे दिया था. बिहार के मधुबनी से निर्दलीय उम्‍मीद’वार के रूप में लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन किया था. शकील अहमद के इस क़दम से पार्टी नाराज़ थी. बिहार में कांग्रेस का राजद और अन्य पार्टियों के साथ महागठबंधन है.

शकील अहमद ने इसके बारे में कहा,”मैंने पार्टी (कांग्रेस) के चिन्ह के लिए आग्रह किया था. मेरा राहुल जी से संवाद हुआ था. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल जी से मेरी बातचीत भी हुई थी. उन्होंने कहा, ‘मैंने आग्रह किया था कि जिस तरह से चतरा में हमारे उम्मीद’वार के खिलाफ राजद ने दोस्ताना मुकाबले के रूप में अपना उम्मी’दवार खड़ा किया है. उसी तरह से मधुबनी में मुझे पार्टी का चिन्ह देकर दोस्ताना मुकाबले में उतरने की अनुमति दी जाए.”

आपको बता दें कि ये सीट बिहार महागठबंधन में विकासशील इंसान पार्टी (VIP) को मधुबनी सीट मिली है. यहाँ से VIP ने बद्री पुर्बे को मधुबनी से अपना उम्मीद’वार बनाया है. इस सीट से शकील अहमद दो बार सांसद रह चुके हैं. यहाँ VIP का भाजपा से सीधा मुक़ाबला माना जा रहा है जबकि शकील अहमद भी इस कोशिश में हैं कि वो भी अच्छी टक्कर दें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *