चुनाव से पहले बंगाल में भाजपा के सामने नई मु’सीबत, दफ़्तर के बाहर क्यूँ हुई पत्थरबा’ज़ी?

March 17, 2021 by No Comments

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव 8 चरणों में होंगे. पहला चरण 27 मार्च से शुरू होगा तो वहीं मतदान का अं’तिम चरण 29 अप्रैल को है. राज्य की 294 सीटों के लिए चुनावी नतीजे 2 मई को आएंगे. ऐसे में पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के लिए टिकट बं’टवारे पर भाजपा कार्यकर्ताओं में अ’संतोष की भावना बनी हुई है। इस बात को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को कोलकाता स्थित भाजपा कार्यालय के बाहर वि’रोध प्रदर्शन किया इसके साथ ही नारेबाजी भी की।

प्र’दर्शनकारियों की भीड़ जब बे’काबू हो गई तो पुलिस को ला’ठीचार्ज करना पड़ा।सूत्रों ने बताया कि पार्टी कार्यकर्ता कुछ सीटों पर उम्मीदवारों के चयन को लेकर आलाकमान से नाराज हैं। पु’लिस सूत्रों के मुताबिक भी’ड़ को नि’यंत्रित करने के लिए सु’रक्षाबलों को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। पुलिस ने बताया कि कार्यालय के बाहर प’त्थरबाजी भी हुई। जिसके बाद इस मामले में छह लोगों को हि’रासत में भी लिया गया है। वहीं भाजपा प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा कि यह अ’संभव है कि भाजपा कार्यकर्ता हिं’सक हो जाएं। भाजपा कार्यालक के बाहर प्र’दर्शन जारी है जिसके बाद अब भाजपा के पुराने और नए कार्यकर्ताओं के बीच म’तभेद खुलकर सामने आ गया है।

केनिंग वेस्ट के एक भाजपा कार्यकर्ता ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि केनिंग वेस्ट सीट से अर्णब रॉय की उम्मीदवारी त’त्काल वापस हो। वह बस पांच दिन पहले ही तृणमूल से भाजपा में शामिल हुए और उन्हें नामांकन दे दिया गया।’ प्रदर्शनकारियों ने आ’रोप लगाया कि भ्र’ष्टाचार में शामिल रहे तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को भाजपा ने टिकट दे दिया।

लंबे समय से भाजपा के कार्यकर्ता रहे मगराहट के रोनी मन्ना ने कहा, ‘यदि उम्मीदवार तत्काल वापस नहीं लिए जाते हैं, हम यूं ही बैठे रहेंगे और पार्टी का चुनाव प्रचार नहीं करेंगे।’ जब पार्टी ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के तीसरे और चौथे चरण के लिए 63 उम्मीदवारों की दूसरी सूची की घो’षणा की। जिसके बाद से राज्य के हिस्सों में प्र’दर्शन रविवार शाम से जारी है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *