कोलकाता: कोरोना संक्र’मण के बढ़ते हुए मामलों के बीच पश्चिम बंगाल का विधानसभा चु’नाव हो रहा है। कुल 8 चरणों मे चुनाव सम्पन्न होना है जिसमें से 6 चरणों की वोटिंग पूरी हो गई है और 2 चरणों की वोटिंग अभी बाकी है। तृणमूल कांग्रेस की नेता व राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को चुनाव आयोग पर आ’रोप लगाया है।

ममता बनर्जी ने कहा, तीन विशेष पर्यवेक्षक पर वोटिंग से पहले टीएमसी कार्यकर्ताओं को हिरा’सत में लेने का आ’देश दे रहे है। उन्होंने बीरभूम के बोलपुर स्थित गीतांजलि सभागार में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि वो ऐसे षड़यंत्र के खिलाफ सुप्रीम को’र्ट जाएंगी।

ममता ने बताया कि उन्हें संयोग से विशेष पर्यवेक्षकों की व्हाट्सऐप पर हुई बातचीत का विवरण मिल गया था और जोर दिया कि उन्हें “कारण बताओ नोटिस (निर्वाचन आयोग द्वारा) दिया जा सकता है, लेकिन चुप नहीं कराया जा सकता.”ममता ने कहा, “बहुत हुआ। अगर वे (निर्वाचन आयोग के पर्यवेक्षक) स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव के लिए काम कर रहे हैं तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है लेकिन वे तो सिर्फ भाजपा की मदद के लिये काम कर रहे हैं. वे तृणमूल को खत्म करना चाहते हैं।”

उन्होंने जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों समेत शीर्ष अधिकारियों के साथ विशेष पर्यवेक्षकों की कथित चैट का विवरण दिखाते हुए कहा, “ये अधिकारी हमारे लोगों को चुनाव से पहले की रात को हिरासत में लेने और उन्हें अगले दिन तक हिरासत में रखने के आदेश दे रहे हैं”। उन्होंने आगे कहा कि व्यक्तिगत रूप से मानती हूं कि भाजपा 70 सीटों से ज्यादा नहीं जीत पाएगी और विशेष पुलिस पर्यवेक्षक चुनाव को ज़्यादा प्रभावित नही कर पाएंगे।

By Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

Leave a Reply

Your email address will not be published.