ख़्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती भाषा यूनिवर्सिटी प्रशासन ने यूनिवर्सिटी के छात्र नेता अहमद रज़ा के ख़िलाफ़ ये पोस्टर लगाया है। अहमद रज़ा कांग्रेस की छात्र इकाई NSUI से जुड़े हुए हैं। कुछ छात्रों ने प्रशासन पर आरोप लगाया था कि प्रशासन उनके बीच जातीय और धार्मिक भेदभाव की भावना डाल रहा है।

छात्रों का आरोप था कि सवर्ण जाति के छात्रों को यादव और मुस्लिम छात्रों के ख़िलाफ़ भड़काया जाता है और मुस्लिम तथा यादव को सवर्ण के ख़िलाफ़।लखनऊ की KMC भाषा यूनिवर्सिटी के छात्रों का आरोप है कि प्रशासन कहता है कि उनका मक़सद विश्विद्यालय का भगवाकरण करना है और इसका नाम बदलना है।

अहमद रज़ा पहले भी छात्रों के सवाल पर प्रशासन से मिलते रहे हैं। CAA-NRC के ख़िलाफ़ आंदोलन का नेतृत्व करने के कारण KMC भाषा यूनिवर्सिटी प्रशासन ने उन पर कड़ी कार्यवाई की थी। मामला अदालत तक गया लेकिन बाद में प्रशासन ने निलंबन वापिस ले लिया। आपको बता दें कि ताज़ा मामले में अहमद रज़ा का अब तक कोई रोल सामने नहीं आया था. हालाँकि सोशल मीडिया पर अहमद ने KMC भाषा यूनिवर्सिटी के छात्रों का समर्थन किया था.

हाल ही में KMC भाषा विश्विद्यालय के छात्रों ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की थी जिसके अनुसार-

“पिछले सप्ताह एन.एस.यू.आई से जुड़े छात्रों ने अपनी समस्या रखते हुए कुलपति जी से लखनऊ विश्वविद्यालय की मुख्य लाइब्रेरी टैगौर पुस्तकालय से संबंधित समस्याओं के समाधान हेतु अपना पक्ष रखखा एवं ज्ञापन सौंपा था । छात्रहित में उचित निर्णय न लेने की स्थिति में छात्र धरना देने को बाध्य हैं ।
आज एनएसयूआई लखनऊ विश्वविद्यालय इकाई द्वारा टैगोर लाइब्रेरी का समय बढ़वाने को लेकर टैगोर लाइब्रेरी के गेट पर धरना प्रदर्शन किया तथा अपनी मांगो को विश्वविद्यालय प्रशासन के समक्ष रखा। धरने में काफ़ी संख्या में आम छात्रों की भी भागीदारी रही ।
छात्रों की प्रमुख रूप से मांगे थी-
1. *लाइब्रेरी में उपस्थित शौचालय की स्वच्छता सुनिश्चित कराई जाए ।*
2. *लड़कियों के छात्रावास की समय सीमा बढाई जानी चाहिए जिससे वो भी लाइब्रेरी की समय सीमा में वृद्धि का लाभ उठा सकें ।*
3. *छात्रों के लाइब्रेरी कार्ड में प्रतिवर्ष होने वाले नवीनीकरण में विलंब पुस्तकों को इश्यू कराने में बाधक है ।*
4. *लाइब्रेरी की समय सीमा बढ़ाई जाए।*
5. *विश्वविद्यालय में स्वच्छ पानी की व्यवस्था की जाए।*
6. *साइबर लाइब्रेरी इंटरनेट की समस्या का समाधान किया जाए।*
7. *टूटी कुर्सियों तथा खराब पंखों को जल्द से जल्द बदला जाए।*
8. *विश्विविध्यालय परिसर में पानी तथा वाटर कूलर की समस्या का जल्द से जल्द निवारड़ किया जाए।*
इस दौरान विश्वविद्यालय की अन्य समस्याओं को भी विश्वविद्यालय प्रशासन के सामने रखा।
विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर राकेश द्विवेदी जी ने छात्रों से मिलकर उनके समस्याओं का समाधान करने का आश्वासन दिया।
इस दौरान प्रमुख रूप से छात्र नेता विशाल सिंह, उत्कर्ष मिश्रा, प्रिंस प्रकाश, मिन्हाज, सदफ तस्नीम, हसनैन, अनुज कुमार, निखिल, अब्दुल,भास्कर कुमार गिरि, प्रियेश, सत्यम यादव तथा विश्वविद्यालय के सैकड़ों छात्र मौजूद रहे।

By Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

Leave a Reply

Your email address will not be published.