नई दिल्ली। स्पेन में इस समय बड़े स्तर पर प्रदर्शन चल रहे हैं. देश के बड़े शहर बार्सिलोना में केटलोनिआ की मांग करते हुए बड़े प्रदर्शन हुए. बताया जा रहा है कि ये प्रदर्शन शुरू में अहिंसक थे लेकिन दक्षिण पंथी समूह के कुछ लोग आकर वहाँ जब हंगामा करने लगे तो झड़’प होने लगी. विरोध प्रदर्शन करने वाले लोगों ने कहा कि हिंसा दक्षिणपंथी समूह की ही ओर से हुई है.

अब इस मामले में स्पेन के कार्यवाहक प्रधानमंत्री प्रेडो सांचेज का बयान आया है. उन्होंने कहा है कि उनकी सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है कि स्पेन की सीमाओं के अंदर और बाहर क़ानून का पालन किया जाए। उन्होंने स्पेन के कैटलन क्षेत्र में चले आ रहे प्रदर्शनों के बारे में बात की. सांचेज ने कहा, “क़ानून स्पष्ट है और जो लोग एक ग़ैरक़ानूनी काम करते हैं, उन्हें इसके लिए जवाब देना होगा।”

सांचेज ने साफ़ किया कि उनकी कार्यवाहक सरकार में हिंसा को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा कि हमने जो हिंसा कैटलोनिया में देखी है उसके बाद माफ़ी की गुंजाइश नहीं बचती है. उन्होंने कहा कि विरोध के अधिकार का पूरी तरह शांतिपूर्ण तरीक़े से प्रयोग किया जाना चाहिए. आपको बता दें कि ये विरोध प्रदर्शन तब शुरू हुए जब कैटलोनिया के 13 नेताओं को जेल भेजे जाने की सज़ा सुनाई गई.

ये सज़ा 2017 में क्षेत्र में जनमत संग्रह कराने में इनकी भूमिका के लिए सुनाई गई है. आपको बता दें कि इस वजह से बार्सिलोना के क्षेत्र में आम सेवायें लगभग ठप हैं. बार्सिलोना के एल प्रात हवाईअड्डे से 57 उड़ानें रद्द हो चुकी हैं. इससे रेल सेवाएं भी प्रभावित हैं और दुकानें भी अधिकतर बंद ही हैं. ये प्रोटेस्ट अपने नेताओं की रिहाई की मांग को लेकर हो रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ 5 लाख से भी अधिक लोग इस प्रोटेस्ट में शामिल हुए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *