CAA के ख़ि’लाफ़ प्रोटे’स्ट करने वाले बॉलीवुड डायरेक्टर अमजद ख़ान को मिलीं जान से मा’रने की धम’कियाँ

January 18, 2020 by No Comments

मलाला युसूफ़ज़ई की ज़िन्दगी पर आधारित फ़िल्म ‘गुलमकई’ रिलीज़ के लिए तैयार है. ये फ़िल्म इस महीने की आख़िरी तारीख़ को रिलीज़ होगी. 31 जनवरी को रिलीज़ होने वाली इस फ़िल्म के डायरेक्टर हैं एचई अमजद ख़ान. पाकिस्तानी एक्टिविस्ट की ज़िन्दगी पर बन रही ये फ़िल्म रिलीज़ से पहले ही विवादों में घिर’ती नज़र आ रही है. अब ख़बर है कि फ़िल्म के निर्देशक को जान से मा’रने की ध’मकियाँ दी जा रही हैं.

इस बारे में उन्होंने एक समाचार एजेंसी से बात करते हुए कहा कि उनको इस प्रोजेक्ट के दरम्यान कई धम’कियाँ मिलीं लेकिन उनके मन में इस तरह का विचार कभी नहीं आया कि वो ये प्रोजेक्ट छोड़ें.अमजद ने कहा कि उन्हें इस बात का यक़ीन है कि मलाला के बारे में बहुत लोग जानते हैं लेकिन उनको जब तालिबान ने गो’ली मा’री उसके पहली की उनकी ज़िन्दगी के बारे में लोगों को अभी भी कुछ नहीं पता है.

Gulmakai


ख़ान ने कहा कि ये फ़िल्म मलाला की पहले की ज़िन्दगी के बारे में बताती है और उन वाक़यात का ज़िक्र करती है जब वो स्वाट में रह रहीं थीं.संयुक्त राष्ट्र ने गुल मकई की स्क्रीनिंग एक साल पहले लन्दन में की थी. अमजद ने बताया कि उन्हें इस स्क्रीनिंग के दौरान शानदार रेस्पोंस मिला, लोगों ने उनकी फ़िल्म को स्टैंडिंग ओवेशन मिला. अमजद बताते हैं कि मलाला के पिता ने भी ये फ़िल्म देखी है और उन्हें ये फ़िल्म पसंद आयी है और वो अपने आँसू रोक नहीं पाए.

आपको बता दें कि नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर चल रहे विरो’ध में भी अमजद ख़ान भी शामिल हुए हैं. उन्होंने लगातार सोशल मीडिया पर भी अपना पक्ष रखा और साथ ही दिल्ली में शाहीन बाग़, जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी और जेएनयू में जाकर भी वि’रोध प्रदर्शन कर रहे लोगों का समर्थन किया.उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि अगर संविधान रहेगा और देश रहेगा तो फ़िल्में कभी भी बनाई जा सकती हैं. उन्होंने ट्वीट किया,”वैसे तो मैं फ़िल्म डायरेक्टर हूँ और किसी भी डायरेक्टर के लिए उसकी आने वाली फ़िल्म सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण होती है लेकिन उससे पहले मैं देशभक्त हूँ इसलिए अभी सबसे पहले देश है उसके बाद फ़िल्म,देश और संविधान रहेगा तो फ़िल्में कभी भी बना लूँगा लेकिन अगर देश ही नहीं रहा तो..?”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *