कर्णाटक: भाजपा के पक्ष में विधायक ने खेला था ये दाँव, अब हो गया निष्कासित..

नई दिल्ली: कर्णाटक विधानसौधा में कल हुए विश्वास मत में कांग्रेस-जेडीएस सरकार हा’र गई. कांग्रेस-जेडीएस के पक्ष में 99 वोट पड़े जबकि इसके विरोध में 105 वोट पड़े. कर्णाटक सरकार के विश्वासमत के गिर जाने के बाद मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने राज्यपाल वाजुभाई वाला से मुलाक़ात करके उन्हें अपना इस्तीफ़ा सौंपा. राज्यपाल ने जेडीएस नेता को केयर-टेकर मुख्यमंत्री बने रहने के लिए कहा.

इस बीच ख़बर है कि बहुजन समाज पार्टी ने अपने एकमात्र विधायक के विधानसभा में अनुपस्थित रहने की बात पर नाराज़गी जताई है. बसपा ने अपने विधायक पर कार्यवाई की और अपने विधायक को अनुशासनहीनता के आरोप में निष्कासित कर दिया. बसपा प्रमुख मायावती ने इस बारे में ट्वीट करते हुए इसकी घोषणा की.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा,”कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार के समर्थन में वोट देने के पार्टी हाईकमान के निर्देश का उल्लंघन करके बीएसपी विधायक एन महेश आज विश्वास मत में अनुपस्थित रहे जो अनुशासनहीनता है जिसे पार्टी ने अति गंभीरता से लिया है और इसलिए श्री महेश को तत्काल प्रभाव से पार्टी से निष्कासित कर दिया गया।”

इसके बाद मायावती ने एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा कि कर्नाटक में बीजेपी ने संवैधानिक मर्यादाओं को ताक़ पर रखने के साथ-साथ जिस प्रकार से सत्ता व धनबल का इस्तेमाल करके विपक्ष की सरकार को गिराने का काम किया है वह भी लोकतंत्र के इतिहास में काले अध्याय के रूप में दर्ज रहेगा। इसकी जितनी भी निन्दा की जाए वह कम है।

karnataka Vidhansaudha

उल्लेखनीय है कि कर्णाटक में कई दिनों से सरकार और विपक्ष में खींचतान जारी थी. कर्णाटक कांग्रेस और जेडीएस के 15 विधायकों के अनुपस्थित होने की वजह से ही कांग्रेस-जेडीएस सरकार गि’री है. वहीँ अब कांग्रेस कह रही है कि वो इन सभी बाग़ियों के ख़िलाफ़ संविधान के अनुरूप कार्यवाई करेगी और ये बाग़ी मंत्री नहीं बन पाएँगे.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.