बिहार NDA में ‘सिर-फु’टव्वल’, भाजपा ने अपने ही सहयोगी को दी चु’नौती..

July 14, 2020 by No Comments

बिहार: बिहार विधानसभा चुनाव की तारीख पास आ रही है। जिसके चलते राज्य में सियासी हलचल काफी तेज़ है। वहीं चुनाव से पहले ही एनडीए दलों में ग’र्मा ग’र्मी देखी गई है। भारतीय जनता पार्टी और लोक जनशक्ति पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। इन दोनों पार्टियों के बीच तना’तनी काफी बढ़ गई है। इसका अंदाजा बीजेपी की बात से लगाया जा सकता है। बीजेपी ने एलजेपी से साफ तौर पर कह दिया है कि उनके बिना सरकार पहले भी बनी है और अब भी बन सकती है। वहीं इससे पहले चिराग़ पासवान ने कोरो’ना की वजह से चुनाव टा’लने की बात भी रखी थी।

चिराग़ पासवान ने कहा था कि “कोरो’ना के प्र’कोप से बिहार ही नहीं पूरा देश प्रभावित है। कोरो’ना के कार’ण आम आदमी के साथ साथ केंद्र व बिहार सरकार का आर्थिक  बजट भी प्रभा’वित हुआ है। ऐसे में चुनाव से प्रदेश पर अतिरिक्त आर्थिक बोझ पड़ेगा।” चिराग़ पासवान के इस बयान को बिहार से बीजेपी नेता संजय पासवान ने आप’त्ति जताई थी। उन्होंने इसपर कहा था कि “चिराग पासवान या जो भी नेता चुनाव टालने की माँग कर रहे हैं, क्या उन्हें लोकतंत्र और चुनाव आयोग पर भरो’सा नहीं रह गया है? चुनाव आयोग ने जब फ़ैस’ला लिया तो उसे मानना ही पड़ेगा।” चिराग़ के इस बयान को साफ तौर पर आरजेडी का सम’र्थन माना जा रहा है। जिससे भारतीय जनता पार्टी काफी चि’ढ़ी हुई है।

LJP-BJP


संजय पासवान ने अपने बयान में यह भी कहा कि बिहार में एनडीए लोक जनशक्ति पार्टी के बगैर भी सरकार बना सकती है। उन्होंने इस विषय में कहा कि “बीजेपी और जनता दल युनाइटेड ने एलजेपी के बिना अतीत में सरकार बनाई है और इस बार भी बना सकती है।” वहीं रा’ष्ट्रीय जनता दल के नेता तेसज्वी यादव ने कोरो’ना के चलते चुनाव को टा’लने की मांग रखी थी। आपको बता दें कि यह सारी तना’तनी सीटों के बंटवा’रे को लेकर हो रही है। एलजेपी ने विधानसभा की 94 सीटों की मांग की है। विधानसभा की कुल सीटें 243 हैं। वहीं इतनी सीटें देना भाजपा के लिए काफी मुश्कि’ल है क्योंंकि एनडीए में जीतन राम मांझी की पार्टी भी जुड़ने वाली हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *