बिहार में भाजपा के लिए मुसीबत बनी लोजपा और जदयू की लड़ाई

November 26, 2020 by No Comments

पटना. बिहार में विधानसभा चुनाव तो संपन्न हो गए हैं लेकिन सियासी दलों की अनबन अभी भी बनी हुई है. NDA गठबंधन की सरकार तो बन गई है लेकिन भाजपा और जदयू में कई बातों को लेकर गहरे मतभेद हैं. सबसे बड़ा मतभेद लोजपा को लेकर है. असल में अब ये बात इसलिए फिर से उठ रही है क्यूँकि राज्यसभा की एक सीट के लिए उपचुनाव होना है. पूर्व केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन की वजह से ख़ाली हुई इस सीट पर 14 दिसम्बर को वोटिंग होनी है.

राज्यसभा की इस सीट के लिए लोजपा अपनी दावेदारी कर रही है लेकिन लोजपा से जदयू नेता बेहद ख़फ़ा हैं और किसी हाल में लोजपा उम्मीदवार का समर्थन न करने की बात कर रहे हैं. वहीं लोजपा नेता भाजपा को याद दिला रहे हैं कि लोकसभा चुनाव के समय ये तय हुआ था कि जदयू और भाजपा 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी और 6 पर लोजपा, साथ ही लोजपा को एक राज्यसभा सीट दी जाएगी. परन्तु विधानसभा चुनाव में लोजपा ने जिस तरह से नीतीश कुमार पर निशाना साधा है वो जदयू के गले नहीं उतर रहा है.

असल में भाजपा नेता लोजपा को सीट देना चाहते हैं, इसकी वजह ये है कि लोजपा ने जो किया वो कहीं न कहीं भाजपा को फ़ायदा पहुँचाने के लिए किया. आज अगर जदयू तीसरे नम्बर की पार्टी है और भाजपा बिहार सरकार में बड़ा भाई है तो इसकी वजह मेन यही है कि लोजपा ने जदयू के वोट काटे. अगर लोजपा को राज्यसभा सीट न मिली तो उसकी स्थिति राजनीति में बेहद कमज़ोर हो सकती है और ऐसे में भाजपा का सहारा कमज़ोर पड़ जाएगा. अब जदयू को मनाने की भी बात है क्यूँकि जदयू के ख़िलाफ़ ही लोजपा को इस्तेमाल किया जाता है तो जदयू क्यूँ मानेगी.

भाजपा ने जदयू के न मानने की सूरत में अपने नेताओं के भी विकल्प रखे हैं. ख़बर है कि शाहनवाज़ हुसैन या सुशील मोदी को राज्यसभा उम्मीदवार बनाया जा सकता है. समीकरण कुछ ऐसा है कि अगर विपक्ष भी अपना उम्मीदवार खड़ा कर दे तो मामला जदयू के हाथ में चला जाएगा. 243 सदस्यीय विधानसभा में जीत उसी की हो सकती है, जिसे प्रथम वरीयता के कम से कम से कम 122 वोट मिलेंगे. ऐसे में हालत यह है कि कोई भी दल अकेले इस अंक के आसपास भी नहीं ऐसे में गठबंधन के सहयोगी दलों का साथ जरूरी है. भाजपा को अपने कोटे की इस सीट को बचाने के लिए जदयू की मदद की दरकार होगी.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *