राज्यसभा में अपने कार्यकाल को पूरा करने वाले कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद ने बुधवार को कहा कि लोग उन्हें अब कई स्थानों पर देखे पाएंगे क्योंकि वो अब फ्री रहेंगे. इसके अलावा उन्होंने कहा कि अब सांसद, मंत्री या पार्टी में कोई पद हासिल करने की उनकी कोई इच्छा नहीं है. आगे उन्होंने कहा कि वह एक राजनेता के रूप में अपने काम से पूरी तरह से संतुष्ट हैं. समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मैं 1975 में जम्मू और कश्मीर के राज्य युवा कांग्रेस का अध्यक्ष था.मैंने पार्टी में कई पदों पर काम किया. मैंने कई प्रधानमंत्रियों के साथ काम किया. मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं कि मुझे राष्ट्र के लिए काम करने का मौका मिला.

उन्होंने आगे कहा, ‘मैं एक राजनेता के तौर पर अपने काम से पूरी तरह संतुष्ट हूं। मुझे लगता है कि जब तक मैं जिंदा रहूंगा, जनता की सेवा करता रहूंगा।’ जब उनसे संसद में मिले प्रशंसा और बधाईयों को लेकर पूछा गया तो आजाद ने कहा, ‘हम कुछ लोगों को गहराई से समझते हैं तो कुछ को सतही तौर पर। जो मुझे गहराई से समझते हैं, उन्होंने सालों तक मेरा काम देखा है और इसलिए भावुक हो गए। मैं उन सबका आभारी हूं। मैं उन लोगों को भी धन्यवाद दूंगा जिन्होंने मुझे मैसेज किया, कॉल किया और मेरे लिए ट्वीट किया।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और विभिन्न दलों के सहयोगियों का शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने मेरी प्रशंसा की और जिनके साथ मुझे काम करने का अवसर मिला। मैं उनकी कामनाओं के लिए सभी का शुक्रगुजार हूं। अपने आगे की राह को लेकर उन्होंने बताया कि अब आप मुझे कई जगहों पर देख सकते हैं। मैं अब फ्री हो गया हूं। सांसद, मंत्री बनने की अब मेरी कोई इच्छा नहीं है। मैंने काफी काम कर लिया है।

गुलाम नबी आजाद कांग्रेस के नेता हैं और पूर्व में यूपीए सरकार में कई पदों पर रह चुके हैं। इनका जन्म 7 मार्च 1949 को जम्मू और कश्मीर के डोडा जिले में हुआ था। मनमोहन सिंह सरकार के पहले कार्यकाल में गुलाम नबी आजाद संसदीय कार्य मंत्री थे और 27 अक्टूबर 2005 तक इस पद पर रहे इसके बाद वो जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री बन गए। इन्होंने जम्मू के जीजीएम कॉलेज से साइंस में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की और 1972 में यूनिवर्सिटी ऑफ कश्मीर से जूलॉजी में मास्टर्स की डिग्री हासिल की।

By admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published.