भाजपा नेता ने की टीपू सुलतान की तारीफ़, अपनी ही पार्टी से अलग…

August 27, 2020 by No Comments

बेंगलुरु: भाजपा में ऐसे बहुत से नेता हैं जो मैसूर के शासक टीपू सुलतान को ख़ूब बुरा कहते हैं. वो इस बात को भी दरकिनार कर देते हैं कि टीपू ने अपने समय में अंग्रेज़ों के ख़िलाफ़ प्रबलता से लड़ा और लड़ते लड़ते शहीद हो गए. हालाँकि भाजपा के कुछ नेताओं के लिए शायद ये काफ़ी नहीं होता है. बहुत से जानकार कहते हैं कि भाजपा को हर मुस्लिम हीरो से परेशानी है और जब ये बात किसी भाजपा नेता से कही जाए तो वो कहता है कि नहीं हम एपीजे अब्दुल कलाम को महान मानते हैं.

हालाँकि ये भी सच है कि पूर्व राष्ट्रपति कलाम के अलावा भाजपा किसी और मुसलमान का नाम अच्छी तरह से नहीं लेना चाहती.परन्तु ऐसा भी नहीं है कि सभी भाजपा नेताओं का ये हाल है. अपनी पार्टी के दूसरे नेताओं से अलग कर्नाटक बीजेपी के विधानपरिषद सदस्य ए एच विश्वनाथ ने टीपू सुलतान की तारीफ़ की है.

बुधवार को 18वीं शताब्दी के मैसूर के शासक टीपू सुल्तान को ‘‘माटी का पुत्र’’ बताया जिन्होंने आज़ादी के लिए अंग्रेजों के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ी थी. विश्वनाथ गत वर्ष कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के ख़िलाफ़ बग़ावत करने के बाद बीजेपी के पाले में चले गए थे. विश्वनाथ ने कहा,”दक्षिण में टीपू सुल्तान थे … ये वे लोग हैं जिन्होंने देश की आजादी के लिए बिगुल बजाया था, इसी तरह संगोली रायन्ना (18 वीं शताब्दी के योद्धा और कित्तूर में स्वतंत्रता सेनानी) भी … आजादी और बलिदान के प्रति उनके प्रेम के लिए हमें, इस देश को सिर झुकाना होगा.”

जब उनको इस सिलसिले में याद दिलाया गया कि उनकी पार्टी का स्टैंड अलग है. उन्होंने कहा,”टीपू सुल्तान किसी भी पार्टी या जाति या धर्म के नहीं हैं. टीपू सुल्तान इस माटी के पुत्र हैं, इसलिए उन्हें किसी भी धर्म तक सीमित करके उन्हें सीमित नहीं करना चाहिए.” आपको बता दें कि जब से कर्णाटक में भाजपा सत्ता में आयी है तब से ही टीपू सुलतान की याद में मनाया जाने वाला जयंती समारोह रद्द कर दिया गया है. विश्वनाथ मानते हैं कि सरकार में उन्हें भी मंत्री बनाया जाना चाहिए क्यूंकि भाजपा की सत्ता आने में उनका योगदान है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *