भाजपा को उसके सबसे मज़बूत गढ़ में हराने के लिए कांग्रेस ने उठाया बड़ा क़दम, सचिन पायलट अब..

June 2, 2021 by No Comments

नई दिल्ली: ऐसा लगता है कि अब कांग्रेस ने ठान लिया है कि वह भाजपा से उसी की तरह से मुक़ाबला करेगी. यही वजह है कि कांग्रेस की पूरी नज़र इस बात पर है कि किस तरह से गुजरात में भाजपा को हराएगी. पिछले महीने राजीव सातव के असामयिक नि’धन के बाद कांग्रेस आलाकमान गुजरात का नया प्रभारी नियुक्त करने पर विचार कर रहा है। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद राजीव सातव (46) गुजरात मामलों के प्रभारी थे। कोविड-19 से उबरने के कुछ दिनों बाद 16 मई को उनका निध’न हो गया।

राज्य तें अगले साल होने वाले महत्वपूर्ण विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस के लिए यह महत्वपूर्ण है, खासकर 2017 में हुए पिछले राज्य चुनावों में पार्टी सत्तारूढ़ भाजपा से सत्ता हथियाने के बहुत करीब पहुंच गई थी। 2017 के चुनाव में राजस्थान के वर्तमान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गुजरात के प्रभारी थे, जबकि बी.के. हरिप्रसाद और मोहन प्रकाश भी दावेदार माने जा रहे थे।

हालांकि, सूत्रों के मुताबिक इस बार गहलोत के पूर्व डिप्टी सचिन पायलट को शांत करने और उन्हें बड़ी जिम्मेदारी देने के लिए वह पार्टी नेतृत्व की शीर्ष पसंद हो सकते हैं। यह कदम राज्य के पार्टी मामलों में पायलट को शामिल गुजरात में कांग्रेस को स्थिरता दी जा सकती है। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि क्या पायलट इस प्रस्ताव को स्वीकार करने को तैयार हैं, क्योंकि पार्टी नेतृत्व ने एक दूत के माध्यम से उनसे बात की है।

उनके करीबी सहयोगियों का कहना है कि राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम अपना गृह राज्य छोड़ने को तैयार नहीं हैं। इस मामले में, गहलोत के करीबी सहयोगी और एआईसीसी के पूर्व सचिव संजय बापना यह प्रतिष्ठित कार्यभार ग्रहण कर सकते हैं। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) में बड़े पैमाने पर फेरबदल की बात चल रही है और सूत्रों का कहना है कि पूर्वोत्तर राज्यों, पश्चिम बंगाल, केरल, गुजरात, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के कई राज्य पीसीसी प्रमुखों को बदला जा सकता है और राज्य के प्रभारी चुनाव से बाहर हो सकते हैं।

उत्तर प्रदेश, पंजाब और उत्तराखंड जैसे राज्यों को चुनावी तैयारियों के लिए उनके गृह राज्यों में वापस भेजा जा सकता है। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि पार्टी में व्यापक सुधारों के बारे में अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले असंतोषी जी-23 नेताओं को पार्टी में समायोजित किया जाएगा, हालांकि मनीष तिवारी और समूह के कई नेताओं को पार्टी में समायोजित किया जाएगा। गुलाम नबी आजाद को पार्टी के भीतर जिम्मेदारी मिली है।

सातव के निध’न के बाद खाली हुई राज्यसभा सीट के बारे में भी कांग्रेस को फैसला करना है। यह देखना दिलचस्प होगा कि जी-23 का कोई नेता इस पद के लिए नामांकित होता है या नहीं। कांग्रेस को 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले राज्य के चुनावों में भी अच्छा प्रदर्शन करना है। खासकर असम, केरल और पश्चिम बंगाल में हालिया पराजय के बाद। साल 2022 में चार राज्यों में चुनाव होने हैं – उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब और गुजरात। उत्तर प्रदेश और पंजाब को छोड़कर अन्य दो राज्यों में कांग्रेस का सीधा मुकाबला भाजपा से है। ऐसे में पार्टी गुजरात के लिए एक अच्छे चुनावी रणनीतिकार की तलाश कर रही है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *