बंगाल में ममता बनर्जी ने लहराया परचम, बाक़ी चार राज्यों में भी..

May 2, 2021 by No Comments

नई दिल्ली: देश में इस साल कोरो’ना संक्रमण के बीच ही पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए। पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव के लिए लोगों ने मतदान किया। पश्चिम बंगाल में कुल 8 चरणों में चुनाव पूरा हुआ। उत्तर-पूर्व के सबसे बड़े राज्य असम में 3 चरणों में विधानसभा चुनाव संपन्न कराए गए। दक्षिण भारत के सबसे बड़े राज्य तमिलनाडु, केरल और केंद्रशासित प्रदेश पुडुचेरी में 1 ही चरण के तहत चुनाव करवाये गए।

शुरूआती रूझान आ गए हैं और इस समय की जो स्थिति है उसके मुताबिक़ पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस 190 सीटों पर आगे चल रही है जबकि भाजपा 89 सीटों पर अपनी बढ़त बनाए हुए है. कांग्रेस-लेफ़्ट गठबंधन किसी भी सीट पर आगे नहीं है. बात अगर असम की करें तो असम में भाजपा गठबंधन 83 से अधिक सीटों पर आगे है जबकि कांग्रेस गठबंधन 39 सीटों पर बढ़त में है.

केरल में लेफ़्ट 92 सीटों पर आगे है जबकि कांग्रेस गठबंधन 45 सीटों पर ही आगे है.बात अगर तमिल नाडू की करें तो यहाँ भाजपा की सहयोगी को बड़ा झटका लगता दिख रहा है. यहाँ DMK 136 सीटों पर आगे है वहीं AIADMK 97 सीटों पर अपनी बढ़त बना पायी है.पुदुचेरी में भाजपा गठबंधन 11 और कांग्रेस 5 सीटों पर आगे है.

`चुनावी नतीजे आने से पहले सामने आए अन्य सभी एग्जिट पोल के अनुमानों के आधार पर एनडीटीवी ने अपना एग्जिट पोल जारी किया है। जिसमें बात सबसे पहले अगर पश्चिम बंगाल की करें तो यहां 294 विधानसभा सीटों के लिए वोटिंग हुई। फिलहाल राज्य में तृणमूल कांग्रेस की सरकार है। ममता बनर्जी बंगाल की मुख्यमंत्री है। बंगाल में बीजेपी और टीएमसी के बीच क’ड़ा मुकाबला है। एनडीटीवी के एग्जिट पोल के मुताबिक टीएमसी इस बार फिर सरकार बनाने में कामया’ब होगी। बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी 294 सीटों में से 149 पर जीत दर्ज कर सकती है।

तो वहीं बीजेपी 116 सीट पर जीत सकती है। वामदलों को 16 सीटें दी गई हैं। बंगाल में बहुमत का आंकड़ा 148 सीटों का है। असम राज्य में 126 विधानसभा सीटें हैं। और इस समय यहां बीजेपी की सरकार है। यहां के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल है। बीजेपी 2016 में मिली ऐतिहासि’क सफलता को असम में दोहराते हुए नज़र आ रही है। विप’क्षी दल कांग्रेस की तरफ से यहां सीएए के मुद्दे को जोर-शोर से उठाया गया था। दक्षिण भारत के सबसे बड़े राज्य तमिलनाडु की 234 विधानसभा सीटों पर मतदान हुआ।

यहां बीजेपी सत्तारूढ़ एआईएडीएमके के साथ है। राज्य में एआईएडीएमके की सरकार हैं। यहां के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी हैं। यूपीए की समर्थन वाली पार्टी डीएमके एग्जिट पोल के अनुमान में सरकार बनाती हुई नज़र आ रही है। एमके स्टालिन की डीएमके और सहयोगी 234 में से कम से कम 171 सीट जीत सकते हैं। बहुमत का आंकड़ा 118 सीटों का है। एआईएडीएमके बहुमत से पी’छे रहती दिख रही है। एआईएडीएमके और उसके सहयोगी 59 सीटों पर ही सि’मटते हुए लग रहे हैं।

केरल में कुल 140 विधानसभा सीटों के लिए लोगों ने वोट किया। यहाँ एलडीएफ की सरकार है। पिनराई विजयन मुख्यमंत्री है। केरल में एलडीएफ़ और यूडीएफ के बीच टक्क’र है। हालांकि एलडीएफ को कुछ बढ़त हासिल है। जबकि यूडीएफ दूसरे स्थान पर हैं। यहां बहुमत का आंकड़ा 71 सीटों का है। एग्जिट पोल में केरल में फिर से पिनराई विजयन अपनी सरकार बनाते हुए दिख रहे हैं। राज्य की 140 विधानसभा सीटों में लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट के खाते में 76 सीटें जा सकती हैं जो कि बहुमत के आंकड़े 71 सीटों से ज्यादा ही है।

केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी की राजनीतिक उथल-पुथल पर पूरे देश की नजरें थीं। यहां विधायकों के इस्ती’फे के बाद अल्पम’त में आई कांग्रेस सरकार के सदन में विश्वास मत हासिल करने से पहले ही मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने इस्ती’फा दे दिया और प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लग गया था। जिसके बाद यहां चुनाव हुए। पुदुच्चेरी में 30 सीटों में एनआरसी और सहयोगियों को 18 सीटें मिल सकती हैं जबकि बहुमत का आंकड़ा 16 का है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *