पांच राज्यों के चुनाव की आज मतगणना चल रही है. शुरूआती रूझान से ऐसा लगता है कि भाजपा की उम्मीदों पर पानी पड़ गया है. बंगाल जीतने के उसके दावे और ख़्वाब सब धराशायी हो गए. पश्चिम बंगाल में भाजपा ने चुनाव जीतने के लिए पूरी ताक़त लगा दी थी लेकिन यहाँ ममता बनर्जी के आगे किसी की एक न चली. अब तक जो रूझान आए हैं उससे तो यही पता चलता है कि भाजपा अपनी 2019 की स्थिति से भी बुरी तरह पिछड़ गई है.

इस समय की जो स्थिति है उसके मुताबिक़ पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस 198 सीटों पर आगे चल रही है जबकि भाजपा 80 सीटों पर अपनी बढ़त बनाए हुए है. वामपंथी पार्टियाँ एक भी सीट पर आगे नहीं हैं जबकि कांग्रेस 1 और राष्ट्रीय सेक्युलर मजलिस पार्टी भी एक सीट पर आगे है.

बात अगर असम की करें तो असम में भाजपा गठबंधन 83 से अधिक सीटों पर आगे है जबकि कांग्रेस गठबंधन 39 सीटों पर बढ़त में है.केरल में लेफ़्ट 92 सीटों पर आगे है जबकि कांग्रेस गठबंधन 45 सीटों पर ही आगे है.बात अगर तमिल नाडू की करें तो यहाँ भाजपा की सहयोगी को बड़ा झटका लगता दिख रहा है. यहाँ DMK 136 सीटों पर आगे है वहीं AIADMK 97 सीटों पर अपनी बढ़त बना पायी है.पुदुचेरी में भाजपा गठबंधन 11 और कांग्रेस 5 सीटों पर आगे है.

चुनावी नतीजे आने से पहले सामने आए अन्य सभी एग्जिट पोल के अनुमानों के आधार पर एनडीटीवी ने अपना एग्जिट पोल जारी किया है। जिसमें बात सबसे पहले अगर पश्चिम बंगाल की करें तो यहां 294 विधानसभा सीटों के लिए वोटिंग हुई। फिलहाल राज्य में तृणमूल कांग्रेस की सरकार है। ममता बनर्जी बंगाल की मुख्यमंत्री है। बंगाल में बीजेपी और टीएमसी के बीच क’ड़ा मुकाबला है।

एनडीटीवी के एग्जिट पोल के मुताबिक टीएमसी इस बार फिर सरकार बनाने में कामया’ब होगी। बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी 294 सीटों में से 149 पर जीत दर्ज कर सकती है। तो वहीं बीजेपी 116 सीट पर जीत सकती है। वामदलों को 16 सीटें दी गई हैं। बंगाल में बहुमत का आंकड़ा 148 सीटों का है। असम राज्य में 126 विधानसभा सीटें हैं। और इस समय यहां बीजेपी की सरकार है। यहां के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल है।

बीजेपी 2016 में मिली ऐतिहासि’क सफलता को असम में दोहराते हुए नज़र आ रही है। विप’क्षी दल कांग्रेस की तरफ से यहां सीएए के मुद्दे को जोर-शोर से उठाया गया था। दक्षिण भारत के सबसे बड़े राज्य तमिलनाडु की 234 विधानसभा सीटों पर मतदान हुआ।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *