अरब देश की मदद के लिए आगे आए एर्दोआन, तुर्की की मिलिट्री ने..

August 6, 2020 by No Comments

बेरुत/अंकारा: बेरुत में हुए भीषण वि’स्फोट ने लेबनान को हिला कर रख दिया है. लेबनान की राजधानी बेरुत में हुए इन ध’माकों में 100 से ज़्यादा लोगों के मारे जाने की ख़बर है जबकि घायलों की तादाद हज़ारों में हैं. भीषण त्रासदी के समय लेबनान की मदद के लिए कई देशों ने हाथ बढ़ाया है. तुर्की ने बेरुत के लिए बड़ी मात्रा में मदद भेजी है. फ्रांस ने भी लेबनान के लिए मदद भेज दी है जबकि सायप्रस ने भी मेडिकल हे’ल्प के लिए हाथ आगे बढ़ाया है.

तुर्की का मिलिट्री प्लेन ह्यूमैनीटेरियन मदद के साथ बेरुत के लिए रवाना हो गया है. इसके पहले तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने इन ध’माकों पर शोक व्यक्त किया. उन्होंने लेबनान के लोगों के लिए अल्लाह से सब्र माँगा. उन्होंने घायलों के जल्दी ठीक होने की दुआ की.. हम हमेशा लेबनान के साथ खड़े है.

लेबनान के प्रधानमंत्री हसन दिआब ने बताया कि ध’माके के पीछे का’रण 2700 टन अमोनियम नाइट्रेट थी जोकि एक कॉमन इंडस्ट्रियल फ़रटीलाइज़र है और साथ ही मा’इनिंग विस्फो’टक की तरह भी इस्तेमाल होता है. प्रधानमंत्री ने इस ध’माके में ह’ताहत लोगों के लिए राष्ट्रीय शो’क का एलान किया है. लेबनान की ऑथोरिटीज़ इस ध’माके को एक्सी’डेंट ही मान रही है और अभी तक इसमें किसी आ’तंकी संगठन या इज़राइल जैसे ‘दु’श्मन’ के हाथ होने के संकेत नहीं मिले हैं.

वहीँ अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इस बारे में कहा है कि जिस तरह का वि’स्फोट हुआ, ऐसा लगता है कि ये एक आ’तंकी ह’मला था. बेरुत में हुए इस भया’नक विस्फो’ट को लेकर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया है. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि वो चौं’क गए हैं और दुःख में हैं. उन्होंने घा’यलों और मृ’तकों के परिवार वालों के लिए दुआ की. बेरुत में मंगल के रोज़ दो बड़े ध’माके हुए. शहर के पोर्ट क्षेत्र में हुए ये ध’माके इतनी तेज़ थे कि 200 किलोमीटर दूर सायप्रस तक में म’हसूस किये गए. धुएँ का ग़ुबार आसमान में छा गया. ध’माकों के बारे में अभी तक ये नहीं कहा जा सकता कि ये आतं’की हम’ला था या किसी तरह का एक्सी’डेंट.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *