वाशिंगटन डीसी/तेल अवीव/ग़ाज़ा: अमरीकी राष्ट्रपति जो बाईडेन ने इसरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू को चेता’वनी दी है. एक प्राइवेट फ़ोन कॉल में अमरीकी राष्ट्रपति ने इसरायली प्रधानमंत्री को चेताया को वो इससे ज़्यादा उनके देश का समर्थन ग़ाज़ा पर ब’मबारी के मुद्दे पर नहीं कर सकते. एक तरफ़ जहाँ पब्लिकली जो बयान दिया है उसमें बाइडेन ने इजराइल को सपोर्ट किया है वहीं दूसरी ओर प्राइवेट डिस्कशन में उन्होंने साफ़ कर दिया है कि इजराइल ये न समझे कि वो जो चाहेगा वो कर लेगा.

बताया जा रहा है कि अमरीकी राष्ट्रपति इजराइल द्वारा ग़ाज़ा में हो रही आम नागरिकों की मौ’त से काफी दुखी हैं और साथ ही इजराइल द्वारा मीडिया हाउसेस की बिल्डिंग पर की गई ब’मबारी से भी बाइडेन इजराइल से नाराज़ हैं. न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी एक ख़बर के मुताबिक़ बाइडेन की टोन प्राइवेट डिस्कशन में ज़्यादा तल्ख़ थी. वहीं दूसरी ओर इज़राइल के एक अखबार ने दावा किया है कि नेतान्याहू के सलाहकार और सेना के अधिकारी उन्हें जंग ख़त्म करने की सलाह दे रहे हैं लेकिन नेतान्याहू अभी जंग जारी रखना चाहते हैं.

इसके पीछे नेतान्याहू का तर्क है कि जंग ख़त्म होने पर उनके पास ऐसा कुछ होना चाहिए कि वो इसरायली जनता के बीच जाएँ तो बताएँ कि वो जंग जीत गए. हालाँकि जानकार मानते हैं कि इस तरह की जंग में किसी की क्लियर जीत नहीं हो सकती. ये ज़रूर कहा जा सकता है कि पिछले कुछ साल से हाशिये पर चले गए हमास को इस युद्ध ने टॉनिक दे दिया है वहीं इजराइल को इस युद्ध ने कुछ ख़ास तो नहीं दिया लेकिन इसके दक्षिणपंथी नेताओं को राजनीतिक टॉनिक ज़रूर दिया है.

इस पूरे मामले की जड़ शेख़ जर्राह में रह रहे फ़िलिस्तीनी परिवारों को उनके मकान से निकालने की कोशिश को बताया जा रहा है. पूर्वी जेरुसलम के शेख़ जर्राह में 6 फ़िलिस्तीनी परिवार को उनके घर से निकालने की कोशिश इसरायली सरकार कर रही है लेकिन इसका बहुत विरोध हुआ है.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *