प्रिस्टीना: यूरोप के एक बहुत छोटे और बहुत कम आबादी वाले देश के कार्यवाहक प्रधानमंत्री अल्बिन कुर्ती ने अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर गंभीर आरोप लगाया है.कोसोवो के प्रधानमंत्री कुर्ती ने कहा कि अमरीकी एन्वोय उनकी सरकार गिराने में प्रत्यक्ष रूप से शामिल रहे हैं. उन्होंने कहा कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प इसको बतौर कूटनीतिक कामयाबी अपने चुनाव प्रचार में प्रयोग करेंगे. अल्बिन कुर्ती ने रिचर्ड ग्रेनेल पर आरोप लगाया कि उन्होंने उनकी पार्टी और उनके गठबंधन सहयोगी को तोड़ा.

रिचर्ड ग्रेनेल कोसोवो-सर्बिया के बीच चल रही बातचीत को आगे बढ़ा रहे हैं. कुर्ती 3 फ़रवरी 2020 को देश के प्रधानमंत्री चुने गए थे लेकिन 25 मार्च को उनके ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया और उनकी सरकार गिर गई. अभी वो अगली सरकार बनने तक कार्यवाहक प्रधानमंत्री हैं. कुर्ती की राजनीतिक पार्टी ‘वेतेवेंदोस्जे’ है जिसका अर्थ है ‘स्व-शासन’. इस पार्टी की राजनीतिक विचारधारा वामपंथ है और ये देश के आंतरिक मुद्दों में किसी और देश के दख़ल का विरोध करती है.’वेतेवेंदोस्जे’ देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है.

कोसोवो के कार्यवाहक प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरी सरकार को सिर्फ़ इसलिए गिरा दिया गया क्यूंकि ग्रेनेल सर्बिया के साथ डील करने की जल्दी में थे. उन्होंने कहा कि ये बहुत नुक़सान वाली डील होगी क्यूंकि इसमें टेरीटोरियल एक्सचेंज भी शामिल है. इस मुद्दे पर जब एसोसिएटेड प्रेस के पत्रकार ने अमरीका के जर्मनी में एम्बेसडर ग्रेनल के प्रवक्ता से पूछा तो इस सवाल पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली. कुर्ती ने आरोप लगाया कि ग्रेनेल को सिर्फ़ पेपर के नीचे दस्तख़त से मतलब है, पेपर में क्या लिखा है इससे नहीं.

टेरीटोरियल एक्सचेंज की डील का कोसोवो में भारी विरोध है. कुर्ती ने कहा कि वो समुदायों की ज़रूरतों पर बात कर सकते हैं, नागरिकों के अधिकार पर बात कर सकते हैं लेकिन टेरीटोरियल एक्सचेंज पर कोई बात नहीं होगी. उल्लेखनीय है कि यूगोस्लाविया के टूटने के बाद कोसोवो सर्बिया का हिस्सा था. 1998-99 में कोसोवो में एक विद्रोह शुरू हुआ जिसके बाद कोसोवो को एक अलग मुल्क बनाये जाने की बात तय हुई. सन 2008 में कोसोवो को आज़ादी मिली लेकिन सर्बिया कोसोवो को अलग मुल्क नहीं मानता है और उसकी आज़ादी की घोषणा को ग़लत कहता है.

कुर्ती ने अपनी सरकार के बनने के बाद सर्बिया के सामान पर लगने वाला 100% टैरिफ़ हटा दिया था. ऐसा इसलिए किया गया था ताकि सर्बिया पर ये दबाव पड़े कि वो उसको अन्तराष्ट्रीय मान्यता दे. बाल्कन क्षेत्र में पड़ने वाले कोसोवो की कुल आबादी 18 लाख के क़रीब है, यहाँ की अधिकतर जनसँख्या मुस्लिम धर्म को मानती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *