अमित शाह को मायावती ने दिखाए ते’वर, ओवैसी के बाद इस चु’नौती से..

भारत राजनीति

नई दिल्ली: CAA को लेकर जारी विरो’ध में अब बसपा प्रमुख मायावती का बयान आया है. मायावती ने कहा है कि अति-वि’वादित CAA/NRC/NPR के खि’लाफ पूरे देश में खासकर युवा व महिलाओं के संगठित होकर संघर्ष व आ’न्दोलित हो जाने से परेशान केन्द्र सरकार द्वारा लखनऊ की रैली में विपक्ष को इस मुद्दे पर बहस करने की चुनौती को BSP किसी भी मंच पर व कहीं भी स्वीकार करने को तैयार है”.

आपको बता दें कि गृह मंत्री अमित शाह बार-बार इस बात को कहते रहे हैं कि वो विपक्ष को इस मुद्दे पर बहस की चुनौती देते हैं. लखनऊ में नागरिकता कानून के समर्थन में आयोजित रैली को संबोधित करते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने कहा था कि इस बिल को लेकर कांग्रेस, टीएमसी, मायावती, सपा और कम्युनिस्ट कांव-कांव चिल्ला रहे हैं. मैंने इस बिल को संसद में पेश किया है मैं चुनौती देता हूं कि इस बिल में की किसी भी धारा में अगर किसी शख्स की नागरिकता छीनने की बाद है तो दिखाएं.

वहीँ AIMIM प्रमुख असदउद्दीन ओवैसी भी अमित शाह को बहस की चुनौती दे चुके हैं. समाचार एजेंसी एएनआई ने ओवैसी के हवाले से लिखा था, ‘उनके साथ बहस क्यों? मेरे साथ बहस कीजिए?’ साथ ही उन्होंने कहा, ‘आपको मेरे साथ बहस करनी चाहिए. मैं तैयार हूं. उनके साथ बहस क्यों करनी? बहस किसी दाढ़ी वाले शख्स से करनी चाहिए. मैं उनके साथ सीएए, एनपीआर और एनआरसी पर बहस कर सकता है.’

असल में सरकार नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर बुरी तरह से घिरती नज़र आ रही है. NRC पर पहले ही पलटी मार चुकी केंद्र सरकार अब एनपीआर से भी वो सवाल हटाने की बात दबी ज़बान में कहने लगी है जिनको लेकर विवा’द है. जनता लेकिन नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर वि’रोध प्रदर्शन जारी रखे हुए है. ये सरकार धर्म के आधार पर नागरिकता प्रदान करता है और मुस्लिम तथा नास्तिक समाज के लोगों से भेदभाव करता है, इसके अलावा ये तमिल-हिन्दुओं को भी नागरिकता नहीं देता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *