पुरे हिंदुस्तान में हर साल लाखों की तादाद में युवा मेहनत के साथ प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करते हैं मगर बहुत कम ऐसे युवा छात्र होते हैं जो इन परीक्षाओं में कामयाबी हासिल कर पाते हैं. कुछ युवा ऐसे भी होते है जो दिन और रात मेहनत कर पढ़ाई करते हैं और अधिकारी बनने की तमन्ना के साथ इस परीक्षा में बैठते हैं कोई इस परीक्षा को पहली बार में ही क्वालीफाई कर लेता है तो कोई पांचवी बार में.आईएएस और आईपीएस बनने के लिए होने वाली यूपीएससी परीक्षा तीन भागो में होती है.

पहले दो भाग लिखित और अंतिम भाग मौखिक होता है.मौखिक के दौरान बहुत दमदार सवाल पूछे जाते हैं. आज हम आपको कुछ ऐसे ही सवालों के बारे में बताने जा रहे हैं जो मौखिक में पूछे जाते हैं.

सवालः पेड़ पर पांच पक्षी बैठे हैं जिनमें से दो ने उड़ना चुना, बताए उस पेड़ पर कितने पक्षी बैठे हैं?
जवाबः पांच क्योंकि दो ने उस वक्त सिर्फ उड़ने का फैसला लिया था लेकिन वो उड़े नहीं.

प्रश्नः क्या एक मिनट में 61 सेकेंड होते हैं?
उत्तरः जी हां बिल्कुल होते हैं, प्रत्येक साल में दो मिनट ऐसे आते हैं जिसमें पूरे 61 सेकेंड्स आते हैं.

सवालः राजेश अपने साथ बैठी हुई महिला को बताता है कि वो मेरी पत्नी के पति की मां की बेटी है, तो बताए उस महिला का राजेश से कौन सा संबंध है?
जवाबः बहन

सवालः एक मनुष्य 24 घंटे में कितनी बार सांस लेता है?
जवाबः एक मनुष्य 17 से 30 हजार बार एक दिन में सांस लेता है.

सवालः ऐसा कौन सा जवाब है जिसका जवाब हां में नहीं दिया जा सकता है?
जवाबः इस सवाल का सही जवाब है, क्या आप सोए हुए हैं?

सवालः ऐसा कौन सा जीव है जो सुबह 4 पैर, दोपहर में 2 पैर और शाम में 3 पैर पर चलता है?
जवाबः मनुष्य जब बच्चा पैदा होता है तो वो उसकी सुबह होती है वो इस समय घुटने और कोहनियों के बल पर चलता है यानी 4 पैर. दोपहर में 2 पैर यानी जब वो जवान होता है तो वो अपने दो पैर पर चलने के काबिल होता है और वो उसकी दोपहर होती है.

और जब आदमी बूढ़ा हो जाता है तो तब वो लाठी/छड़ी लेकर चलता है तो वो उसकी शाम होती है और वो 3 पैर पर चलता है. सवाल बेहद सीधे और सुलझे होते हैं लेकिन हमें शांति से समझने की जरुरत है और हम जल्दबाजी में ऐसे सवालों को पास कर देते हैं और ध्यान नहीं देते हैं. ऐसे में इस तरह के भी सवालों पर ध्यान देने की ज़रूरी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *