AIMIM के बिहार अध्यक्ष ने विधानसभा अध्यक्ष चुनाव पर कही बड़ी बात, दोनों बड़े गठबंधन एक-एक पोस्ट..

November 24, 2020 by No Comments

बिहार विधानसभा में अध्यक्ष पद को लेकर NDA और महागठबंधन दोनों की ओर से उम्मीदवार खड़े किए गए हैं. महागठबंधन ने राजद नेता अवध बिहारी चौधरी को उम्मीदवार बनाया है जबकि NDA की ओर से विजय कुमार सिन्हा मैदान में हैं. गणित की माने तो ये NDA के पक्ष में है लेकिन राजद कुछ करिश्मा करने की फ़िराक़ में है. NDA और महागठबंधन की इस ल’ड़ाई में छोटे दल भी अहम् हैं. सबसे अधिक नज़र आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन पर लगी हुई है.

आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन(AIMIM) के पाँच विधायक हैं और अब ये किस ओर जाते हैं, ये इम्पोर्टेन्ट है. AIMIM के बिहार प्रदेश अध्यक्ष अख्तरुल ईमान फ़िलहाल अपने पत्ते नहीं खोल रहे हैं. उन्होंने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष के लिए वह भी अपना उम्मीदवार उतार सकते हैं, लेकिन नामांकन की तारीख खत्म हो गई है. ऐसे में अब ओवैसी के विधायकों के पास विपक्ष और सत्तापक्ष के प्रत्याशी में से ही किसी एक के पक्ष में खड़ा होना होगा.

अख्तारुल इमान ने कहा है कि उनकी पार्टी एक तीसरे मोर्चे की तरह हैं. उन्होंने सत्तापक्ष और मुख्य विपक्ष को सलाह दी कि सत्ता पक्ष को अध्यक्ष का पद और विपक्ष को विधानसभा का उपाध्यक्ष का पद दिया जाना चाहिए. AIMIM इस बात पर नज़र रखे हुए है कि राजद की स्थिति क्या है. अगर राजद के पक्ष में NDA के दो छोटे घटक दल में से एक भी आने लगेगा तब AIMIM अपना फ़ैसला लेगी. बिहार विधानसभा अध्यक्ष के लिए बुधवार की सुबह 11:00 बजे से लेकर शाम 4:00 बजे तक वोटिंग होगी. शाम 5:00 बजे से होगी वोटों की गिनती होगी.

बिहार में कुल 243 विधानसभा सदस्य हैं और एनडीए के पक्ष में 126 विधायकों का समर्थन हासिल है, जिनमें बीजेपी 74, जेडीयू के 43, हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के 4, वीआईपी के चार और एक निर्दलीय विधायक शामिल हैं. विपक्षी खेमे में महागठबंधन के साथ 110 विधायक हैं, जिनमें आरजेडी के 75, कांग्रेस के 19 और वामपंथी दलों के 16 विधायक का समर्थन है. इसके अलावा सात विधायक अन्य के पास हैं, जिनमें 5 AIMIM, एक एलजेपी और एक बसपा के विधायक हैं. कहा जा रहा है कि महागठबंधन NDA को कुछ भी आसानी से जीतने देने वाला नहीं है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *