आगरा के मेयर ने CM योगी को लिखा ख़त,’मेरा आगरा संक’ट में है.. प्रशासन फ़ेल हो गया है’

आगरा/लखनऊ: उत्तर प्रदेश में आगरा एक ऐसा शहर है जहाँ कोरो’ना का प्रकोप काफ़ी ज़्यादा है. इसको लेकर जहाँ प्रशासन अपने दावे कर रहा है वहीँ आगरा के मेयर ने एक भावुक अपील करके सबको चौंका दिया है. उन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप-मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा से अपील की कि उनके शहर को बचा लीजिए. उन्होंने एक भावुक अपील में कहा,”मेरा आगरा सं’कट में है”.

उन्होंने कहा,”आगरा को बचाने के लिए कड़े निर्णय लेने की ज़रूरत है। आपसे हाथ जोड़कर प्रार्थना है कि मेरे आगरा को बचा लीजिए, बचा लीजिए…” मेयर ने ये ख़त 21 अप्रैल को मुख्यमंत्री के लिए लिखा है. ये ख़त शनिवार के रोज़ वायरल हो गया. आगरा के मेयर नवीन जैन ने मुख्यमंत्री और उप-मुख्यमंत्री को लिखे ख़त में स्पष्ट कहा है कि स्थानीय प्रशासन कोरो’ना रोकने में नाकाम है.

उन्होंने ये भी लिखा कि जो क्वारंटाइन सेंटर बनाये गए हैं उसमें मरीज़ों को भोजन और पानी जैसी चीज़ें भी नहीं मिल पा रही हैं. उन्होंने ये भी कहा कि सरकारी अस्पतालों में हालात बहुत ख़राब हैं और “इलाज के अभाव में लोग मर रहे हैं”. महापौर का कहना है कि डायलिसिस, अन्य जांचें व समुचित इलाज ना मिलने से मरीज मर रहे हैं, जिसका उदाहरण सिकंदरा निवासी आरबीसी पुंडीर हैं. उन्होंने लिखा कि दवा न मिलने के कारण लोग परेशान हैं। निजी अस्पताल बंद है और जो मरीज़ गंभीर बीमारियों से ग्रस्त है, उनका उपचार भी नहीं हो पा रहा है।

महापौर नवीन जैन ने मुख्यमंत्री से कहा है कि जो दावे डोर-स्टेप डिलीवरी के हैं वो सब महज़ खोखले दावे हैं, अफ़सर कोई व्यवस्था नहीं बना पा रहे और CMO ज़िला अस्पताल की व्यवस्थाओं को नहीं संभाल पा रहे हैं. उन्होंने ये भी लिखा कि वरिष्ठ अधिकारी महज़ फ़ोटो खिंचाने के लिए घर से बाहर निकल रहे हैं और 15-20 मिनट में फ़ोटोग्राफ़ी करके वापिस लौट जाते हैं. उन्होंने कहा कि ऐसे अफ़सरों से सरकार की छवि धूमिल हो रही है. आपको बता दें कि नवीन जैन भारतीय जनता पार्टी के नेता हैं और सं 2017 से आगरा के मेयर हैं. अब तक आगरा में कोरोना वाय’रस के 371 मामलों की पुष्टि हो चुकी है, शहर के 9 लोगों की जान इस वाय’रस ने ले ली है.

About Arghwan Rabbhi

Arghwan Rabbhi is a researcher and journalist.

View all posts by Arghwan Rabbhi →

Leave a Reply

Your email address will not be published.