चंडीगढ़: पंजाब कांग्रेस के अंदर चल रही सियासी हलचल में एक नया मोड़ आया है। नवजोत सिंह सिद्धू के लिए एक सम्मानित पद को लेकर कैप्टन अमरिंदर सिंह और सिद्धू के बीच वि’वाद चला आ रहा था। लेकिन अब कांग्रेस हाईकमान ने सिद्धू पर भरोसा रखते हुए उन्हें पंजाब का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया। रविवार को सिद्धू को पंजाब कांग्रेस की कमान सौंपी गई।

रविवार को सिद्धू के नाम के एलान के बाद सोमवार को सिद्धू ने एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी का शुक्रिया अदा किया। लेकिन उन्होंने अमरिंदर सिंह का ज़िक्र नही किया। सिद्धू ने अपने पिता के कांग्रेस से कनेक्शन का बारे में भी लिखा, समृद्धि, विशेषाधिकार और स्वतंत्रता न केवल कुछ के बीच साझा करने के लिए, मेरे पिता एक कांग्रेस कार्यकर्ता ने एक शाही घर छोड़ दिया और स्वतंत्रता संग्राम में शामिल हो गए, किंग्स एमनेस्टी द्वारा प्राप्त देशभक्ति के काम के लिए मौत की सजा दी गई, डीसीसी अध्यक्ष, विधायक, एमएलसी बने और महाधिवक्ता।

सिद्धू ने अपने पंजाब मिशन की बात रखते हुए कहा कि वह कांग्रेस परिवार के सभी सदस्यों के साथ मिलकर काम करेंगे और जीतेगा पंजाब मिशन को आगे बढ़ाएंगे। सिद्धू ने सबकुछ कहा लेकिन उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बारे में कुछ नही कहा। इससे यह कयास लगाए जा रहे हैं कि अभी भी सिद्धू और अमरिंदर के बीच मतभेद बना हुआ है। आपको बता दें कि, सिद्धू को कोई सम्मानित पद दिए जाने का वि’रोध अमरिंदर सिंह करते आएं हैं। इन सबके बावजूद रविवार को कांग्रेस हाईकमान ने अपना फैसला ले लिया।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *