दुबई: सऊदी अरब और क़तर के रिश्ते २०१७ से ही ख़राब चल रहे हैं. सऊदी अरब और उसके सहयोगी देश जिनमें बहरीन, UAE और मिस्र का नाम शामिल हैं, क़तर से कई मुद्दों पर असहमत हैं. क़तर पर इन देशों ने गंभीर इलज़ाम भी लगाये थे जिसके बाद से ही सम्बन्ध में ख़ासी ख़राबी आयी है. क़तर को पिछले दो साल में बलोकेड का भी सामना करना पड़ा है लेकिन इसके बाद भी क़तर की अर्थव्यवस्था को ख़ास फ़र्क़ नहीं पड़ा.

संबंधों में कुछ बेहतरी आये इसको लेकर ओमान और कुवैत जैसे देशों ने कोशिशें भी कीं. फ्रांस ने भी अपनी तरफ़ से कोशिश की लेकिन तब कोई बात नहीं बनी लेकिन अब ख़बर है कि रिश्ते अब बेहतर हो रहे हैं. एक क्षेत्रीय फुटबॉल टूर्नामेंट में भाग लेने के लिए सऊदी अरब, बहरीन और UAE की भी टीमें गईं. सऊदी अरब और क़तर के बीच सेमीफाइनल मुक़ाबला खेला जाएगा. ये मुक़ाबला जुमेरात के रोज़ होगा.

इस बारे में अब एक और बड़ी ख़बर आ रही है. मिडल ईस्ट आई की रिपोर्ट के मुताबिक़ सऊदी अरब के शाह सलमान ने क़तर के अमीर को अगले हफ़्ते होने वाली गल्फ रीजनल ब्लाक की अहम् बैठक में न्योता दिया है. क़तर की स्टेट मीडिया में इस बारे में ख़बर छपी है. हालाँकि क़तर के अमीर ने इस निमंत्र्ण पर क्या जवाब दिया है ये साफ़ नहीं किया गया है. ऐसा माना जा रहा है कि क़तर और सऊदी अरब के बीच सम्बन्ध सुधारने के लिए संयुक्त राज्य अमरीका काम कर रहा है.

अमरीका मानता है कि वो तब तक ईरान के ख़िलाफ़ अपने असहयोग में कामयाब नहीं हो सकता जब तक अरब देश एकजुट नहीं हैं. असल में सऊदी अरब पहले ही क़तर पर ईरान का क़रीबी होने का आरोप लगाता रहा है. परन्तु अमरीका ने इस सिलिसले में दोस्ती करवाने की कोशिश की है कि जब आपस में ही मतभेद होगा तो ईरान से कूटनीतिक ल’ड़ाई नहीं जीती जा सकती.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *