लखनऊ: समाजवादी पार्टी के रामपुर से सांसद आज़म ख़ान धो’खाधड़ी के मामले में करीब सवा साल से सीतापुर की जेल में बन्द हैं। सोमवार को आज़म ख़ान की तबियत बि’गड़ने के बाद उन्हें लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती करवाया गया। सीतापुर की जेल में बंद सपा के वरिष्ठ सांसद आज़म ख़ान 9 मई को कोरोना सं’क्रमित पाए गए थे। जिसके बाद उन्हें करीब एक महीने से ज़्यादा लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती रखा गया था। कोरोना सं’क्रमण से ठीक हो जाने के बाद उन्हें पोस्ट कोरोना संबंधी कुछ स्वास्थ स’मस्याएं आ रही थी। जिसकी वजह से उनका इलाज मेदांता अस्पताल में जारी था।

मेदांता अस्पताल के डॉक्टर ने उन्हें स्वस्थ बताते हुए 13 जुलाई को डिस्चार्ज कर दिया था। उसके बाद आज़म ख़ान को सीतापुर की जेल में भेज दिया गया। आज़म ख़ान की पत्नी और रामपुर से नगर विधायक डॉक्टर ताज़ीन फातमा ने सरकार की नियत पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने आज़म ख़ान को जेल भेजने को एक राजनीतिक चा’ल बताया है। सोमवार को आज़म ख़ान की तबियत बि’गड़ने और फिर उन्हें मेदांता अस्पताल में भर्ती किये जाने की इस पूरी प्रक्रिया को लेकर उन्होंने सरकार पर ग’म्भीर आ’रोप लगाए है।

मीडिया से बातचीत के दौरान आज़म ख़ान की पत्नी ने कहा कि, मेदांता अस्पताल के डायरेक्टर की तरफ से आज़म ख़ान का जब स्वास्थ्य संबंधी बुलेटिन आया तब भी वह पूरी तरह स्वस्थ नही थे। जब उन्हें मेदांता से डिस्चार्ज किया गया था। तब मैंने वीडियो देखा था। उन्हें व्हीलचेयर से ले जाया जा रहा था। उनके हाथ बहुत कमज़ोर नज़र आ रहे थे। वह एंबुलेंस में ठीक से चढ़ भी नही पा रहे थे। उन्हें सहारा देकर चढ़ाया गया था। मैं मानती हूं कि यह सबकुछ राजनीति का घि’नौना हिस्सा है। इसमें सा’ज़िश है।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *