चंडीगढ़: पंजाब के सियासी माहौल की चर्चा इन दिनों देश की राजनीति में हलचल मचाये हुए है। लंबे समय से पंजाब कांग्रेस के अंदर की क’लह शांत होने का नाम नही ले रही। कांग्रेस आलाकमान के कई बार कोशिश करने के बावजूद भी पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच का वि’वाद सुलझा नही। जबकि विवाद की स्थिति अब और भी ज़्यादा बढ़ती ही जा रही है। मंगलवार को नवजोत सिंह सिद्धू का एक ट्वीट सामने आया जिससे कि नवजोत सिंह सिद्धू के आम आदमी पार्टी में शामिल होने की अ’टकलें लगाई जाने लगी।

सिद्धू ने ट्वीट कर लिखा, “हमारी विपक्षी पार्टी आम आदमी ने हमेशा पंजाब के लिए मेरे विजन और काम को पहचाना है। 2017 से पहले की बात हो तो बेअदबी, ड्रग्स, किसानों के मुद्दे, भ्रष्टाचार और बिजली संकट का सामना पंजाब के लोगों ने मेरे द्वारा किया या आज जैसा कि मैं “पंजाब मॉडल” पेश करता हूं, यह स्पष्ट है कि वे (AAP) जानते हैं, वास्तव में पंजाब के लिए कौन लड़ रहा है।” सिद्धू के इस ट्वीट के बाद कांग्रेस आलाकमान ने मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को पंजाब में अमरिंदर सिंह और सिद्धू के बीच के वि’वाद को सुलझाने की ज़िम्मेदारी दी है।

सिद्धू अमरिंदर कैबिनेट में मंत्री रह चुके हैं। लेकिन वि’वाद के बाद उन्होंने इ’स्तीफा दे दिया था। कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व सिद्धू को सरकार व प्रदेश संगठन में जोड़ने की कोशिश लगातार करता रहा। बीच में ऐसी खबरें भी आईं की सिद्धू को कांग्रेस आलाकमान कोई बड़ा पद दे सकते हैं। लेकिन इस बात के लिए अमरिंदर राज़ी नही हुए। कमलनाथ अमरिंदर और सिद्धू के बीच वि’वाद को कितना हद तक सुलझा पाएंगे यह तो वक्त ही तय करेगा।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *