Home Blog

बिहार: NDA की मुश्किलों में इज़ाफ़ा, उपेन्द्र कुशवाहा ने इस विपक्षी नेता से की मुलाक़ात

0
उपेन्द्र कुशवाहा (फ़ाइल फ़ोटो)

बिहार की सियासत मे एक के बाद एक आरोप-प्रत्यारोप के साथ साथ उथल पुथल जारी है।आरएलएसपी के दोनों विधायक उपेंद्र कुशवाहा का साथ छोड़कर नीतीश कुमार का दामन थामने जा रहे हैं। इन्ही सब चर्चाओं के साथ इसी आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने सोमवार को जेडीयू के बागी नेता शरद यादव से मुलाकात की है। शरद पवार से मुलाकात के बाद उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा।उन्होंने कहा कि नीतीश हमारे MLA को तोड़ने की कोशिश कर रहे और पता नहीं वो मुझे क्यों बर्बाद करने पर तुले हैं।उन्होंने कहा कि अभी हम NDA में, नीतीश को ऐसा नहीं करना चाहिए। और तो और यह भी कहा कि,हमारे पार्टी के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज करना गलत है।जानकारी के लिए आपको बता दे कि,नीतीश कुमार ने हाल ही में उपेंद्र कुशवाहा को नीच तक कह दिया था।इसके बाद कुशवाहा समाज के लोगों ने सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ प्रदर्शन किया था। प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने कुशवाहा समर्थकों पर लाठीचार्ज कर दिया था।इस दौरान कई समर्थक घायल भी हो गए थे।

शिवराज को फिर लगा झटका, इस बार इस क़रीबी रिश्तेदार ने पार्टी छोड़ी…

0
शिवराज सिंह चौहान (फ़ाइल फ़ोटो)

भोपाल: मध्य प्रदेश में चुनावी माहौल पूरी तरह से गरमाया हुआ है. भाजपा और कांग्रेस के बीच इस समय कांटे की ल-ड़ाई नज़र आ रही है.इस बीच भाजपा को एक और झटका लग गया है. पहले शिवराज सिंह चौहान के साले संजय सिंह मसानी ने कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर ली थी अब ख़बर है कि उनके भतीजे ने भी कांग्रेस का दामन थाम लिया है. पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष धर्मेन्द्र सिंह चौहान ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर ली है.

हाल ही में विवादों में आए विराट कोहली को सरकार ने दिया झटका..

0
विराट कोहली

दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेटर्स में बहुत से भारतोय क्रिकेटर्स का नाम भी शामिल है। ये खिलाड़ी बोर्ड के साथ-साथ कई ब्रांड्स के ब्रांड एम्बेसडर बनाये जाने के कारण करोडो में कमाई करते है। भारतीय टीम के स्टार क्रिकेटर विराट कोहली अाए दिन चर्चा में रहते हैं। फिर चाहे वो क्रिकेट के मैदान में हो या सोशल मीडिया में हो। हर दिन विराट का करियर बुलंदियां छू रहा है। क्रिकेट कैरियर हो या किसी ब्रांड का ब्रांड एम्बैसडर बनना हुआ है,वह सभी की पहली पसंद होते हैं ।कभी कभी तो वह विवादो के कारण भी लोगों के बीच चर्चा का विषय बने होते है । वही एक बार फिर से विराट कोहली एक मोटर बाइक के प्रचार के करण विवादों में घिरे हुए है।

आमिर खान से सलमान ख़ान ने लिया ये सबक़

0
सलमान ख़ान

सलमान खान की फिल्में आने से पहले ही चर्चा में बनी रहती हैं।फिल्म को इतनी पब्लिसिटी मिल जाती है कि लोग थियेटर्स तक पहुंचने में जरा भी देर नहीं करते । बॉलीवुड क्या उनके फैंस भी अब ये जानते हैं कि बॉक्स ऑफिस पर सलमान खान के नाम पर फिल्में हिट होती हैं। फिर भी वो उस फिल्म को देखने थियेटर्स तक खिंचे चले आते हैं ।हां फिल्म कैसी है ये फर्क नहीं पड़ता । सलमान खान अपने प्रशंसकों की इच्छाओं और आकांक्षाओं पर खरे उतरते हैं और वह आपने फिल्मों से सबका दिल जीतने की पूरी कोशिश करते रहते हैं।

BJP में शाहनवाज हुसैन के बुरे दिन शुरू,किया जा रहा है अपमान,पढ़े यहाँ

0
PHOTO CREDIT-Prokerala

नई दिल्ली-शाहनवाज हुसैन बीजेपी के बड़े मुस्लिम चेहरे हैं। 2014 में भागलपुर से लोकसभा चुनाव हारने के बाद से ही भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन के सितारे गर्दिश में हैं। जबकि बता दे कि दिल्ली की डीटीसी बस से चढ़कर साउथ ब्लॉक तक सफर तय करने वाले शाहनवाज देश में सबसे पहले युवा कैबिनेट मिनिस्टर बनने का रिकॉर्ड बनाया था। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने शाहनवाज हुसैन को भागलपुर संसदीय सीट से उतारा था.उन्हें आरजेडी के शैलेष कुमार के हाथों हार का मुंह देखना पड़ा था.

शाहनवाज हुसैन को 3 लाख 58 हजार 138 वोट मिले थे. जबकि आरजेडी उम्मीदवार को 3 लाख 67 हजार 623 वोट मिले थे. इस तरह से शाहनवाज हुसैन महज 9 हजार 485 वोट से हार गए थे. जबकि जेडीयू के अबु कैशर को 1 लाख 32 हजार 256 वोट पाने में सफल रहे थे.गौरतलब यह है कि भागलपुर बीजेपी इकाई में भी उनको तवज्जो नहीं मिल रही। यहां तक कि जिले के पोस्ट-बैनर में भी उन्हें जगह नही मिली। इसका सबसे बड़ा उदाहरण वाणिज्य मंच का दीपावली मिलन समारोह है। इस समारोह में उन्हें आमंत्रित भी नहीं किया गया।

फोटो क्रेडि-जनसत्ता

दीपावली के मौके पर छपे पोस्टर में भी शाहनवाज हुसैन को जगह नहीं दी गयी। ऐसे में माना जा रहा है कि भागलपुर में 2014 की तरह ही गुटबाजी अभी से परवान चढ़ने लगी है। साथ ही साथ स्थानीय राजनीतिक समीकरण बीजेपी के मिशन 2019 को नया एंगल देने में जुट गए हैं।दरअसल, 9 नवंबर को बीजेपी वाणिज्य मंच की तरफ से भागलपुर में दीपावली मिलन समारोह हुआ। कार्यक्रम के लिए वाणिज्य मंच के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य संजीव कुमार शर्मा उर्फ लालू शर्मा ने पोस्टर भी छपवाए।

पोस्टर में बीजेपी के शीर्ष नेता पीएम नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के अलावा प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, सुशील मोदी, अश्विनी चौबे और निशिकांत दुबे सरीखे बड़े नेताओं की फोटो छपी। यहां तक कि अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित चौबे को भी पोस्टर में जगह मिली। लेकिन, अटल सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे और वर्तमान में पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन की तस्वीर नदारद थी।जबकि बता दे कि 1997 में एक कार्यक्रम के दौरान शाहनवाज हुसैन का भाषण सुनकर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि ये लड़का बहुत अच्छा बोलता है, अगर पार्लियामेंट में भेजोगे तो बड़े-बड़े लोगों की छुट्टी करेगा।

गौरतलब है कि बिहार के भागलपुर में दीपावली के पोस्टर से गायब हुए शाहनवाज हुसैन आमंत्रण छपवाने वाले लालू शर्मा ने शाहनवाज हुसैन को तवज्जो नहीं देने के पीछे अपना तर्क दिया है। उनका कहना है कि शाहनवाज हुसैन ने भागलपुर के लिए कुछ भी नहीं किया। लिहाजा, इस दफा लोगों की मांग है कि बीजेपी किसी स्थानीय नेता को टिकट दे। हालांकि, स्थानीय राजनीति के जानकार इस पहल को 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान हुई गुटबाजी की ही पुनारावृत्ति करार दे रहे हैं।शाहनवाज हुसैन के लिए 2019 में राह आसान नहीं होने वाली है। पहले ही 2014 में मोदी लहर के बावजूद वह गुटबाजी की भेंट चढ़ चुके हैं और एक बार फिर राजनीतिक परिस्थितियां पुराने ढर्रे पर लौट रही हैं।

राजस्थान:इस समुदाय से किसी को भी नही मिला टिकट,जाने भाजपा की है क्या रणनीति ?

0
PHOTO CREDIT-WIRE

नई दिल्ली-बीजेपी ने आगामी राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए 131 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की है। केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा ने रविवार रात को बताया कि राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए बीजेपी ने 131 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है। बता दें कि राजस्थान में 7 दिसंबर को वोटिंग होनी है। सोमवार को अधिसूचना जारी होने के साथ ही प्रदेश में नामांकन पत्र भरने का कार्य शुरू हो जाएगा जो 19 नंवबर तक चलेगा।

बता दे कि बीजेपी की इस पहली लिस्ट में 12 महिलाओं को मौका मिला है, वहीं 32 युवा चेहरों पर भी पार्टी ने विश्वास जताया है. इसके अलावा इस सूची में 17 एससी उम्मीदवार और 19 एसटी उम्मीदवारों को अपना भाग्य आजमाने का मौका दिया गया है. वहीं इस लिस्ट में भरपूर वंशवाद और परिवारवाद भी सामने आया है. यहां तक कि इस लिस्ट में दिवंगत नेताओं की संतानों को भी टिकट दिया गया है.

बता दे कि साल 2013 में बीजेपी से 2 मुस्लिम विधायक जीतकर विधानसभा पहुंचे थे.लेकिन इस बार पार्टी की पहली लिस्ट में एक भी मुस्लिम प्रत्याशी का नाम शामिल नहीं है, जिसके चलते यह कयास लगाए जा रहे हैं कि पार्टी इस बार हिंदुत्व कार्ड खेलने जा रही है.बता दे कि दिल्ली में बीजेपी केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हुई, जिसके बाद ये लिस्ट जारी हुई। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मौजूद रहे। बैठक में राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी शामिल हुईं.

(ये प्रतीकात्मक चित्र है)
PHOTO CREDIT-GOOGLE SEARCH

गौरतलब है कि टिकट वितरण को लेकर अमित शाह की तरफ से कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत अलग से रायशुमारी कर रहे थे. जबकि वसुंधरा राजे ने अपनी अलग सूची बनाई है. इससे पहले शनिवार दिनभर राजस्थान के प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर के घर पर वसुंधरा राजे राजस्थान के नेताओं के साथ बैठक करती रहीं.दरअसल राजस्थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं. इनमें 142 सीट सामान्य, 33 सीट अनुसूचित जाति और 25 सीट अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित हैं.

2013 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी और उसने 163 सीटों पर जीत दर्ज की थी. जबकि कांग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई थी. बहुजन समाज पार्टी को 3, नेशनल पीपुल्स पार्टी को 4, नेशनल यूनियनिस्ट जमींदारा पार्टी को 2 सीटें मिली थीं. जबकि 7 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार जीते थे.

उम्मीदवारों की घोषणा होते ही बीजेपी को झटका,250 नेताओ ने एक साथ पार्टी छोड़ी

0
Photo Crdedit-Newsnation

टिकट बटवारा राजनैतिक पार्टियों के लिए परेशानी का सबब बन गया है,राजस्थान में चुनाव पूर्व सभी पूर्व अनुमानों में भाजपा के हाथ से सत्ता जाती हुइ दिख रही है लेकिन अब भाजपा को एक और बड़ा झटका लगा है.भाजपा के करीब 250 नेताओ ने पार्टी छोड़ दी है.इन सबकी नाराज़गी की वज़ह टिकट बटवारा बताया जा रहा है.

भाजपा नेताओ ने पार्टी मुख्यालय में पहुच कर नारेबाजी की.भाजपा में इतनी बड़ी बगावत देखते हुए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने टिकट कटने वालों को मनाने की जिम्मेदारी केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को दी गई है.लेकिन बागी नेताओ मान नही रहे है अजमेर के किशनगढ़ से विधायक भागीरथ चौधरी का टिकट कटने से चौधरी के समर्थक इतने नाराज़ हो गये कि जयपुर मुख्यालय में घुसकर हंगामा करने लगे.

फाइल फोटो

इसके बाद नाराज बीजेपी कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री शेखावत का घेराव कर नारेबाजी शुरू कर दी.किसी तरह से केन्द्रीय मंत्री शेखावत मान मनौव्वल कर प्रदर्शनकारियों को बाहर लेकर आए और मैदान में जमीन पर बैठकर उनसे बातचीत करनी चाही.लेकिन हंगामा बंद नहीं हुआ.अंत में विरोध बढ़ता देख पुलिस बुलाना पड़ा.

फिलहाल भाजपा दफ्तर में चारों तरफ पुलिस की तैनाती कर दी गई है, ताकि कोई तोड़फोड़ नहीं हो लेकिन हंगामा कम नही हो रहा है.राजस्थान के किशनगढ़ में करीब 50 भाजपा नेताओ ने पार्टी को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. इसके अलावा करीब एक दर्जन जगहों पर विरोध प्रदर्शन जारी है. टिकट कटने के विरोध में ढाई सौ से ज्यादा भाजपा पदाधिकारियों ने आज पार्टी से इस्तीफा दे दिया.

भाजपा की एक रैली से ली गयी फ़ोटो

गौरतलब है कि राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए रविवार को भाजपा ने 131 उम्मीदवारों के नाम की पहली लिस्ट जारी की थी.भाजपा की इस पहली सूची में 85 वर्तमान विधायकों को टिकट थमाया गया है, वहीं 25 नए चेहरों को भी इस लिस्ट में शामिल किया गया है,भाजपा की पहली सूची में 12 महिलाओं को मौका मिला, वहीं 32 युवा चेहरों पर भी पार्टी ने विश्वास जताया है.टिकट काटने की नाराज़गी कांग्रेस में भी कम नही है लेकिन जितना बवाल भाजपा में हो रहा है कांग्रेस में बागी उतने नही है.वही दोनों पार्टिया डरी हुई है.राजनैतिक विश्लेषको के अनुसार बागी दोनों पार्टियों को काफी नुकसान पंहुचा सकते है.

रोमांचक मैच में भारत ने पाकिस्तान को हराया

0
क्रिकेट स्टंप (क्रेडिट: फ़ाइल)

महिला एशिया कप 2018 का रोमांच बढ़ता जा रहा है और इसके साथ अंक तालिका में भी उतार चढ़ाव का दौर जारी है। इस बार जो 6 टीमें एशिया कप में शिरकत कर रही हैं उनमें हॉन्गकॉन्ग भी शामिल है। भारत की टूर्नामेंट के ग्रुप-बी में यह लगातार दूसरी जीत है। भारत अपने पहले मैच में न्यूजीलैंड को 34 रन से हराया था।वहीं, पाकिस्तान की यह लगातार दूसरी हार है।भारत की टीम पाकिस्तान से मिले 134 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी. भारत को मिताली और स्मृति मंधाना (26) ने पहले विकेट के लिए 9.3 ओवर में 73 रन की साझेदारी कर मजबूत शुरुआत दी।मिताली के करियर का यह 16वां अर्धशतक था।आपको बता दे कि,न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले मैच में जीत की नायिका रही कप्तान हरमनप्रीत कौर ने नाबाद 14 रन बनाए जिससे भारत ने 19 ओवर में तीन विकेट पर 137 रन बनाकर जीत को अपने नाम किया।उन्होंने 47 गेंदों पर सात चौके लगाए। मिताली को प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला। मंधाना ने 28 गेंदों पर चार चौके लगाए।जेमिमा रोड्रिगेज ने 16, पिछले मैच में शानदार शतक बनाने वाली कप्तान हरमनप्रीत कौर ने 13 गेंदों पर दो चौकों की मदद से नाबाद 14 और वेदा कृष्णामूर्ति ने पांच गेंदों पर एक चौके के सहारे नाबाद आठ रन बनाए।

अयोध्या विवाद:सुप्रीम कोर्ट ने भगवा संघठन को दिया बड़ा झटका,ठुकरा दी ये…

0

लख़नऊ: अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन का विवाद अभी भी कोर्ट में चल रहा है. सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को इस मामले की तेजी से सुनवाई करने के लिए अपील की गई थी. ये अपील अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने दाखिल की थी. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने इस मामले की सुनवाई जल्द करने से इनकार कर दिया है.

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की पीठ ने कहा कि उसने पहले ही अपीलों को जनवरी में उचित पीठ के पास सूचीबद्ध कर दिया है.अखिल भारतीय हिंदू महासभा की ओर से उपस्थित अधिवक्ता बरूण कुमार के मामले पर शीघ्र सुनवाई करने के अनुरोध को खारिज करते हुए पीठ ने कहा, ‘‘हमने आदेश पहले ही दे दिया है. अपील पर जनवरी में सुनवाई होगी. अनुमति ठुकराई जाती है.” शीर्ष अदालत ने इससे पहले राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले को जनवरी के पहले सप्ताह में उचित पीठ के पास सूचीबद्ध किया था. पीठ मामले पर सुनवाई की तारीख के बारे में फैसला करेगी.

फाइल

हाई कोर्ट की तीन सदस्यीय पीठ ने 30 सितंबर, 2010 को 2:1 के बहुमत वाले फैसले में कहा था कि 2.77 एकड़ जमीन को तीनों पक्षों- सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और रामलला में बराबर-बराबर बांट दिया जाए. इस फैसले को किसी भी पक्ष ने नहीं माना और उसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई. सुप्रीम कोर्ट ने 9 मई 2011 को इलाहाबाद हाई कोर्ट के इस फैसले पर रोक लगा दी थी. इलाहाबाद हाई कोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट में ये केस बीते 8 साल से है. 2019 के आम चुनावसे पहले इस मसले ने एक बार फिर जोर पकड़ लिया है.

बता दे कि पिछली सुनवाई में तत्कालीन चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के साथ जस्टिस अशोक भूषण और अब्दुल नजीर मामले को सुन रहे थे. चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के रिटायर होने के बाद सोमवार को हुई सुनवाई में तीनों जज पहले से अलग रहे. पिछली सुनवाई में ही सुप्रीम कोर्ट से मुस्लिम पक्षों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा था. सुप्रीम कोर्ट ने 1994 के इस्माइल फारुकी के फैसले में पुनर्विचार के लिए मामले को संविधान पीठ भेजने से इंकार कर दिया था. मुस्लिम पक्षों ने नमाज के लिए मस्जिद को इस्लाम का जरूरी हिस्सा न बताने वाले इस्माइल फारुकी के फैसले पर पुनर्विचार की मांग की थी.

‘मोदी समर्थक’ माने जाने वाले इस नेता ने चुनाव लड़ने से किया इनकार

0
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फ़ाइल फ़ोटो)

मुंबई: शरद पवार और त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल श्रीनिवास पाटिल का रविवार को ‘‘पुणे एकेकाली’’ नामक एक कॉफीटेबल बुक के विमोचन के मौके पर ‘पुरानी यादों का पुणे’ विषय पर मशहूर पत्रकार सुधीर गाडगिल साक्षात्कार ले रहे थे। यह बुक महाराष्ट्र के दूसरे सबसे बड़े शहर पर आधारित है। साक्षात के दौरान शरद पवार ने चुनावी रणनीति के बारे में भी चर्चा की और कहीं ना कहीं उनके चर्चा से और उनके जवाब से अलग रहा था कि वह अगले चुनाव में चुनाव नहीं लड़ेंगे।राकांपा के प्रमुख शरद पवार से जब पूछा गया कि क्या वह पुणे से अगला लोकसभा चुनाव लड़ने पर विचार करेंगे तो उनका बस यह जवाब था, ‘‘अब और चुनाव नहीं।’’ शरद पवार ने यहीं पर स्थित अपने कॉलेज के दिनों के बारे में और उस समय के चुनाव के बारे में तथा लगातार चार साल चुनाव जीतने समेत पुणे से जुड़ी काफी चर्चा की।

ब्रेकिंग न्यूज़